CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद

CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद

CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद

वर्ण :

भाषा की वह छोटी से छोटी ध्वनि जिसके और छोटे खंड नहीं किए जा सकते हैं, उसे ‘वर्ण’ कहते हैं। अ, क्, प्, ट्, म्, ह आदि वर्ण हैं। वर्णों के और टुकड़े नहीं किए जा सकते हैं। ये भाषा की सबसे छोटी इकाई हैं, जो हमारे मुख से निकली हुई ध्वनियों के लिखित रूप होते हैं, इन्हें ही वर्ण कहा जाता है।

वह छोटी से छोटी ध्वनि जिसके और छोटे टुकड़े न किए जा सकें, उसे वर्ण कहते हैं। वर्ण-विच्छेद-किसी शब्द की रचना में जिन वर्णों का प्रयोग होता है, उन वर्गों को अलग-अलग करना वर्ण-विच्छेद कहलाता है; जैसे –

अनूप विद्यालय जाएगा-वाक्य के शब्दों का वर्ण-विच्छेद करें तो निम्नलिखित वर्ण मिलते हैं –

अनूप = अ + न् + ऊ + प् + अ,
विद्यालय= + व् + इ + द् + य् + आ + ल् + अ + य् + अ,
जाएगा = ज् + आ + ए + ग् + आ

वर्णमाला :

वर्णों के क्रमबद्ध समूह को ‘वर्णमाला’ कहते हैं।
हिंदी वर्णमाला में निम्नलिखित वर्ण हैं –
स्वर – अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ऋ, ए, ऐ, ओ, औ।
अयोगवाह – अं, अः
विसर्ग-अः

CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद 1

CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद 2

CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद 3

अन्य वर्ण ‘ड’ और ‘ढ’- देखने में दोनों वर्ण ‘ड’ और ‘ढ’, ‘ड’ और ‘ढ’ के समान ही लगते हैं, परंतु इनके उच्चारण में पर्याप्त अंतर होता है। हाँ, एक बात अवश्व ही ध्यान रखने की है कि ‘ड’ और ‘ढ’ शब्द के प्रारंभ में नहीं आते हैं। इनसे कोई भी शब्द आरंभ नहीं होता है। ये शब्दों के बीच में या अंत में ही आते हैं। इसके विपरीत ‘ड’ और ‘ढ’ शब्द के आरंभ, मध्य या अंत में अर्थात् कहीं भी आ सकते हैं; जैसे –

  • बड़ा, घड़ा, घड़ियाल
  • डमरू, गुड्डी, हड्डी
  • दाढ़ी, दढ़ियल, बुढ़िया
  • ढक्कन, गड्ढा, बुड्ढा

संयुक्त व्यंजन – ‘क्ष’, ‘त्र’, ‘ज्ञ’ और ‘श्र’ को संयुक्त व्यंजन कहा जाता है, क्योंकि ये वर्ण एक से अधिक वर्गों के मेल से बने हैं; जैसे –

क्ष = क् + ष् + अ – क्षत्रिय, क्षमा, कक्षा, परीक्षा, तक्षक, तक्षशिला, लक्ष्मी आदि।
त्र = त् + र् +अ – त्रिशूल, त्रिफला, पत्र, त्रिनेत्र, पत्रिका, पत्रोत्तर आदि।
ज्ञ = ज् + ञ् + अ – यज्ञ, विज्ञ, विज्ञान, ज्ञान, संज्ञान, प्रतिज्ञा, अज्ञात आदि।
श्र = श् + र् + अ – श्रमजीवी, श्रमिक, श्री, आश्रय, आश्रम, विश्राम, श्रोता, श्रवण।

वर्गों के दो भेद हैं –

1. स्वर-जो वर्ण स्वतंत्र रूप से बोले जाते हैं तथा जिनके उच्चारण में हवा (वायु) बिना रुकावट के मुँह से बाहर आती है, उन्हें
स्वर कहते हैं। स्वर स्वतंत्र ध्वनियाँ हैं, जिनकी संख्या 11 है।

स्वर के भेद-उच्चारण में लगने वाले समय के आधार पर इन्हें तीन वर्गों में बाँटा जा सकता है –
(अ) ह्रस्व स्वर-जिस स्वरों के उच्चारण में कम समय लगता है, उन्हें ‘ह्रस्व स्वर’ कहते हैं। इनकी संख्या 4 है। ये स्वर हैं – अ, इ, उ तथा ऋ।
(ब) दीर्घ स्वर-जिन स्वरों के उच्चारण में ह्रस्व स्वरों के उच्चारण में लगने वाले समय का दुगुना समय लगता है, उन्हें ‘दीर्घ
स्वर’ कहते हैं। इनकी संख्या 7 है। ये स्वर हैं-आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ तथा औ।
(स) प्लत स्वर-जिन स्वरों के उच्चारण में दीर्घ स्वरों के उच्चारण में लगने वाले समय का दुगुना समय लगता है, उन्हें ‘प्लुत
स्वर’ कहते हैं। इनका प्रयोग प्रायः किसी को पुकारने के लिए किया जाता है; जैसे-ओम्।
CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद 4

CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद 5

2. व्यंजन-जिन वर्णों का उच्चारण स्वर की मदद से किया जाता है तथा जिनके उच्चारण में वायु मुँह के विभिन्न अवयवों से रगड़ खाकर निकलती है, उन्हें व्यंजन कहते हैं।

उच्चारण स्थान के आधार पर व्यंजन के तीन भेद होते हैं –
(अ) स्पर्श व्यंजन-जिन वर्णों के उच्चारण में जिह्वा (जीभ) मुख के विभिन्न भागों को स्पर्श करती हुई निकलती है, उन्हें स्पर्श व्यंजन कहते हैं। इनकी संख्या 25 है। प्रत्येक वर्ग के पहले वर्ण के नाम पर इन्हें पाँच वर्गों में बाँटा गया है –
CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद 6

(ब) अंतस्थ व्यंजन-जिन वर्णों का उच्चारण स्वर और व्यंजन वर्गों के मध्य का-सा लगता है, उन्हें अंतस्थ व्यंजन कहते हैं।
य, र्, ल् और व् अंतस्थ व्यंजन हैं। इनकी संख्या चार है।

(स) ऊष्म व्यंजन-जिन वर्गों के उच्चारण में ऊष्म (गरम) वायु मुँह से बाहर निकलती है, उन्हें ऊष्म व्यंजन कहते हैं। श,
छ, स् और ह ऊष्म व्यंजन हैं। इकी संख्या चार है।

CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद 7
कुछ स्थितियों को छोड़कर पंचमाक्षर के स्थान पर इसका प्रयोग किया जाता है; जैसे-चंदन, बंदर, कंगन आदि।
CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद 8
जब स्वरों का उच्चारण नाक तथा मुख दोनों से एक साथ होता है; जैसे-आँख, गाँव, पाँव, ठाँव आदि।
ध्यान दें- जब शिरोरेखा के ऊपर मात्रा होती है तो इसका प्रयोग अनुस्वार जैसा ही किया जाता है; जैसे – मैं, गोंद, हैं आदि।

व्यंजन द्वित्व और संयुक्ताक्षर :

संयक्त व्यंजन- जब दो या दो से अधिक व्यंजनों का मेल होता है, तो उसे संयुक्त व्यंजन कहते हैं।
क्ष =क् + ष
त्र = त् + र
ज्ञ = ज् + ञ
श्र = श् + र ।

व्यंजन द्वित्व – जब एक व्यंजन ध्वनि अपने समान ही अन्य व्यंजन ध्वनि से जुड़ती है, तो उसे व्यंजन द्वित्व या द्वित्व व्यंजन कहते हैं; जैसे –
च् + च = च्च = बच्चा
ट् + ट = ट्ट = लटू
द् + द = द्द = कद्दू
त् + त = त्त = पत्ता

संयुक्ताक्षर बनाने के नियम –

(i) खड़ी पाई वाले वर्णों की पाई हटाकर –
CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद 9

(ii)
CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद 10
क्वार = (क + वा = क्वा)
पक्की = (क + की = क्की)
रफ़्तार= प + ता = फ्ता
हफ्ता= प + ता = फ्ता

(iii) CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद 11
जैसे –
वाङ्मय = ङ् + म
लड्डू = ड् + डू
लटू = ट् + टू
गड्ढा = ड् + ढा
कंठ्य = ठ् + य
असह्य = ह् + य

शब्द का वर्ण-विच्छेद :

किसी शब्द या ध्वनि के समूह के वर्गों को अलग-अलग लिखना वर्ण-विच्छेद कहलाता है। आइए, वर्ण-विच्छेद के कुछ उदाहरण देखते हैं –
सड़क = स् + अ + डू + अ + क् + अ
भक्त = भ् + अ + क् + त् + अ
महात्मा = म् + अ + ह् + आ + त् + म् + आ
कविता = क् + अ + व् + इ + त् + आ
प्रयोग = प + र् + अ + य् + ओ + ग् + अ
अद्भुत = अ + द् + भ् + उ + त् + अ
कलम = क् + अ + ल् + अ + म् + अ
पाठशाला = प् + आ + ठ् + अ + श् + आ + ल् + आ
आराधना = आ + र् + आ + ध् + अ + न् + आ
प्राकृतिक = प् + र् + आ + क् + ऋ + त + इ + क् + अ
सर्वमान्य = स् + अ + र् + व् + अ + म् + आ + न् + य् + अ
अर्जुन = अ + र् + ज् + उ + न् + अ
परिश्रम = प् + अ + र + इ + श् + र् + अ + म् + अ
क्षत्रिय = क् + ष् + अ + त् + र् + इ + य् + अ
परिक्रमा = प् + अ + र् + इ + क् + र् + अ + म् + आ
क्षमा = क् + ष् + अ + म् + आ
विज्ञान = व् + इ + ज् + ञ् + आ + न् + अ
गुरुद्वारा = ग् + उ + र् + उ + द् + व् + आ + र् + आ

आइए इन्हें भी जानें –

वर्ण-विच्छेद करते समय निम्नलिखित बातों को जानना आवश्यक है –

(i) ‘रि’ और ‘ऋ’ के रूप –
परिचय = प् + अ + र् + इ + च् + अ + य् + अ
रिषभ = र् + इ + ष् + अ + भ् + अ ।
पृथक = प् + ऋ + थ् + अ + क् + अ
कृपा = क् + ऋ + प् + आ

(ii) ‘र’ और ‘ ‘ तथा ‘ ‘ की मात्राएँ –
रुस्तम = र् + उ + स् + त् + अ + म् + अ
रुपया = र् + उ + प् + अ + य् + आ
रूपा = र् + ऊ + प् + आ
रूठना = र् + ऊ + ठ् + अ + न् + आ

(iii) ‘ह’ के विभिन्न संयुक्त –
रूपह्रस्व = ह् + र + अ + स् + व् + अ
हृदय = ह् + ऋ + द् + अ + य् + अ
प्रह्लाद = प् + र् + अ + ह् + ल् + आ + द् + अ
चिह्न = च् + इ + ह् + न् + अ

(iv) ‘द’ के संयुक्त –
रूपद्वार = द् + व् + आ + र् + अ
द्रव्य = द् + र् + अ + व् + य् + अ
उद्देश्य = उ + द् + द् + ए + श् + य् + अ
विरुद्ध = व् + इ + र् + उ + द् + ध् + अ

(v) CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद 12

(vi)
CBSE Class 9 Hindi B व्याकरण वर्ण-विच्छेद 13
अंगूर = अं + ग् + ऊ + र् + अ
गंगा = ग् + अ + ङ् + ग् + आ
कंबल = क् + अं(अ + म्) + ब् + अ + ल् + अ
पम्प = प् + अ + म् + प् + अ
चंद्र = च् + अं(अ + न्) + द् + र् + अ
ठंडक = ठ् + अं + ड् + अ + क् + अ
चंदन = च् + अं(अ + न्) + द् + अ + न् + अ
चंचु = च् + अं(अ + ञ्) + च् + उ
ठंडा = ठ् + अं(अ + ण्) + ड् + आ

वर्ण-विच्छेद के उदाहरण –

अंग = अं + ग् + अ
अंधा = अं+ ध् + आ
अंग्रेज़ = अं+ ग् + र् + ए + ज् + अ
अंगार = अँ + ग् + आ + र
अचला _ = अ + च् + अ + ल् + आ
अधुना = अ + ध् + उ + न् + आ
अक्षर = अ + क् + ष् + अ + र् + अ
अवश्य = अ + व् + अ + श् + य् + अ
अग्नि = अ + ग् + न् + इ
अमृत = अ + म् + ऋ + त् + अ
अप्रतिभ = अ + प् + र् + अ + त् + इ + भ् + अ
अभ्यागत = अ + भ् + य् + आ + ग् + अ + त् + अ
आश्रम = आ + श् + र् + अ + म् + अ
इज़्ज़त = इ + ज् + ज् + अ + त् + अ
इस्तेमाल = इ + स् + त् + ए + म् + आ + ल् + अ
उक्ति = उ + क् + त् + इ
उच्चारण = उ + च् + च् + आ + र् + अ + ण् + अ
ऋचा = ऋ+ च् + आ
एकाग्र = ए + क् + आ + ग् + र् + अ
एकाक्षर = ए + क् + आ + क् + ष् + अ + र् + अ
औषधि = औ + ष् + अ + ध् + इ
कंगारू = क् + अं+ ग् + आ + र् + ऊ
कन्हाई = क् + अ + न् + ह् + आ + ई
कुशाग्र = क् + उ + श् + आ + ग् + र् + अ
अव्वल = अ + व् + व् + अ + ल् + अ
आकार = आ + क् + आ + र् + अ
आख्यान = आ + ख् + य् + आ + न् + अ
आक्रांत = आ + क् + र् + आ + न् + त् + अ
आजीवन = आ + ज् + ई + व् + अ + न् + अ
आज्ञा = आ + ज् + ञ् + आ
आधार = आ + ध् + आ + र् + अ
आपूर्ति = आ + प् + ऊ + र् + त् + इ
आरूढ़ = आ + र् + ऊ + द + अ
गृहस्थ = ग् + ऋ + ह् + अ + स् + थ् + अ
ग्राहक = ग् + र् + आ + ह् + अ + क् + अ
ग्राह्य = ग् + र् + आ + ह् + य् + अ
घृणित = घ् + ऋ + ण् + इ + त् + अ
घंटी = घ् + अं+ ट् + ई
चकोर = च् + अ + क् + ओ + र् + अ
चक्कर = च् + अ + क् + क् + अ + र् + अ
चक्र = च् + अ + क् + र् + अ
चतुर्थ = च् + अ + त् + उ + र् + थ् + अ
चाँदनी = च् + आँ + द् + अ + न् + ई ।
चक्षु = च् + अ + क् + ष् + उ
चित्रित = च् + इ + त् + र् + इ + त् + अ
चिह्नित = च् + इ + ह् + न् + इ + त् + अ
ज़ख्मी = ज् + अ + ख् + म् + ई
जीवन = ज् + ई + व् + अ + न् + अ
जुर्माना = ज् + उ + र् + म् + आ + न् + आ
जागृति = ज् + आ + ग् + ऋ + त् + इ
जिज्ञासा = ज् + इ + ज् + ञ् + आ + स् + आ
जिह्वा = ज् + इ + ह् + व् + आ
जुझारू = ज् + उ + झ् + आ + र् + ऊ
ज्ञापित _ = ज् + ञ् + आ + प् + इ + त् + अ
ज्योत्स्ना = ज् + य् + ओ + त् + स् + न् + आ
झंडा = झ् + अं+ ड् + आ
टिप्पणी = ट् + इ + प् + प् + अ + ण + ई
ठाकुर = ठ् + आ + क् + उ + र् + आ
ढूँढना = द् + ऊ + * + द + अ + न् + अ
तांत्रिक = त् + आ + अं+ त् + र् + इ + क् + अ
त्रुटि = त् + र् + उ + ट् + इ
त्वरित = त् + व् + अ + र् + इ + त् + अ
तालाब = त् + आ + ल् + आ + ब् + अ
कौतुक = क् + औ + त् + उ + क् + अ
क्रय = क् + र् + अ + य् + अ
कृत्रिम = क् + ऋ + त् + र् + इ + म् + अ
क्रोध = क् + र् + ओ + ध् + अ
क्ले श = क् + ल् + ए + श् + अ
खट्टा = ख् + अ + ट् + ट् + आ
ख्याति = ख + य् + आ + त् + इ
गाँठ = ग् + आँ + ठ् + अ
गद्य = ग् + अ + द् + य् + अ
त्रिभुज = त् + र + इ + भ् + उ + ज् + अ
तृष्णा = त् + ऋ + ष् + ण् + आ
दफ़्तर = द् + अ + फ़् + त् + अ + र् + अ
देवत्व = द् + ए + व् + अ + त् + व् + अ
दंभी = द् + अं+ भ् + ई
दृष्टि = द् + ऋ + ष् + ट् + इ
द्रवित = द् + र् + अ + व् + इ + त् + अ
दैनंदिनी = द् + ऐ + न् + अं + द् + इ + न् + ई
द्युति = द् + य् + उ + त् + इ
द्वापर = द् + व् + आ + प् + अ + र् + अ
द्वितीया = द् + व + इ + त् + ई + य् + आ
दविज = द् + व् + इ + ज् + अ
द्वैत = द् + व् + ऐ + त् + अ
ध्वजा = ध् + व् + अ + ज् + आ
ध्वस्त = ध् + व् + अ + स् + त् + अ
नंदिनी = न् + अं + द् + इ + न् + ई
नक्काशी = न् + अ + क् + क् + आ + श् + ई
निरुपम = न् + इ + र् + उ + प् + अ + म् + अ
नास्तिक = न् + आ + स् + त् + इ + क् + अ
निस्तब्ध = न् + इ + स् + त् + अ + ब् + ध् + अ
नृत्य = न् + ऋ + त् + य् + अ
पुष्प = प् + उ + ष् + प् + अ
प्रधान = प् + र् + अ + ध् + आ + न् + अ
प्राच्य = प् + र् + आ + च् + य् + अ
पृथ्वी = प् + ऋ + थ् + व् + ई
फलदार = फ् + अ + ल् + अ + द् + आ + र् + अ
फिक्र = फ् + इ + क् + र् + अ
बाँस = ब् + आँ + स् + अ
बृहद = ब् + ऋ + ह् + अ + द् + अ
ब्रह्मा = ब् + र् + अ + ह् + म् + आ
लक्षण = ल् + अ + क् + ष् + अ + ण् + अ
वत्सल = व् + अ + त् + स् + अ + ल् + अ
विरुद्ध = व् + इ + र् + उ + द् + ध् + अ
व्योम = व् + य् + ओ + म् + अ
व्रत = व् + र् + अ + त् + अ
शक्ति = श् + अ + क् + त् + इ
सृष्टि = स् + ऋ + ष् + ट् + इ
हार्दिक = ह् + आ + र् + द् + इ + क् + अ
ब्रह्मर्षि = ब् + र् + अ + ह् + म् + अ + र् + ष् + इ
भेद्य = भ् + ए + द् + य् + अ
मंगल = म् + अं+ ग् + अ + ल् + अ
मित्र = म् + इ + त् + र् + अ
मौक्तिक = म् + औ + क् + त् + इ + क् + अ
याचक = य् + आ + च् + अ + क् + अ
रूहानी = र् + ऊ + ह् + आ + न् + ई

पाठ्यपुस्तक के गद्य पाठों से लिए गए कुछ प्रमुख शब्द और उनका वर्ण-विच्छेद –

धूल :

कविता = क् + अ + व् + इ + त् + आ
श्रृंगार = श् + र् + ऋ + अं+ ग् + आ + र् + अ
आविष्कार = आ + व् + इ + ष् + क् + आ + र् + अ
संसर्ग = स् + अं+ स् + अ + र् + ग् + अ
बुद्धि = ब् + उ + द् + ध् + इ
स्पर्श = स् + प् + अ + र् + श् + अ
विडंबना = व् + इ + ड् + अं (अ + म्) + ब् + अ + न् + आ
व्यंजनाएँ = व् + य् + अं( + अ + न्) + ज् + अ + न् + आ + ए + अँ
चकाचौंध = च् + अ + क् + आ + च् + औ + अ + ध् + अ
पार्थिवता – प् + आ + र् + थ् + इ + व् + अ + त् + आ
वास्तविकता = व् + आ + स् + त् + अ + व् + इ + क् + त् + आ
बड़प्पन = ब् + अ + ड़ + अ + प् + प् + अ + न् + अ
निरवंद्व = न् + इ + र् + द् + व् + अं + द् + व् + अ
सूर्यास्त = स् + ऊ + र् + य् + आ + स् + त् + अ

दुख का अधिकार :

श्रेणियाँ = श् + र् + ए + ण् + इ + य् + आँ
निश्चित = न् + इ + श् + च् + इ + त् + अ
फुटपाथ = फ् + उ + ट् + अ + प् + आ + थ् + अ
दक्षिणा = द् + अ + क् + ष् + इ + ण् + आ
दुअन्नी = द् + उ + अ + न् + न् + ई
संभ्रांत = स् + अं(अ + म्) + भ् + र + आ + अं + त् + अ
सहूलियत = स् + अ + ह् + ऊ + ल् + इ + य् + अ + त् + अ
परिस्थिति = प् + अ + र् + इ + स् + थ् + इ + त् + इ
व्यवधान = व् + य् + अ + व् + अ + ध् + आ + न् + अ
विश्राम = व् + इ + श् + र् + आ + म् + अ
सर्प = स् + अ + र् + प् + अ
वियोगिनी = व् + इ + य् + ओ + ग् + इ + न् + ई
द्रवित = द् + र् + अ + व् + इ + त

एवरेस्ट-मेरी शिखर यात्रा :

एवरेस्ट = ए + व् + अ + र् + ए + स् + ट् + अ
अग्रिम = अ + ग् + र् + इ + म् + अ
सर्वप्रथम = स् + अ + र् + व् + अ + प् + र् + अ + थ्
अधिकांश = अ + ध् + इ + क् + आ + अं+ श् + अ
विचित्र = व् + इ + च् + इ + त् + र् + अ
ल्होत्से = ल् + ह् + ओ + त् + स् + ए
नेतृत्व = न् + ए + त् + ऋ + त् + व् + अ
ग्लेशियर = ग् + ल् + ए + श् + इ + य् + अ + र् + अ
एक्सप्रेस = ए + क् + स् + अ + प् + र् + ए + स् + अ
काठमांडू = क् + आ + ल् + अ + म् + आ + अं+ ड् + ऊ
दुर्गम = द् + उ + र् + ग् + अ + म् + अ
प्रसिद्ध = प् + र् + अ + स् + इ + द् + ध् + अ + अ + म् + अ
दृश्य = द् + ऋ + श् + य् + अ ।
दक्षिण = द् + अ + क् + ष् + इ + ण् + अ
आकर्षित = आ + क् + अ + र् + ष् + इ + त् + अ
मृत्यु = म् + ऋ + त् + य् + उ
झंडियाँ = झ् + अं + ड् + इ + य् + आ + अँ
विस्तृत = व् + इ + स् + त् + ऋ + त् + अ
सुरक्षा = स् + उ + र् + अ + क् + ष् + आ
कृतज्ञता = क् + ऋ + त् + अ + ज् + ञ् + अ + त् + आ
क्षमता = क् + ष् + अं + म् + अ + त् + आ
दृढ़ता .. = द् + ऋ + ढ़ + अ + त् + आ
सुरक्षित = स् + उ + र् + अ + क् + ष् + इ + त् + अ

तुम कब जाओगे, अतिथि :

चतुर्थ = च् + अ + त् + उ + र् + थ् + अ
नम्रता = न् + अ + म् + र् + अ + त् + आ
आग्रह = आ + ग् + र् + अ + ह् + अ
निर्मूल = न् + इ + र् + म् + ऊ + ल् + अ
संक्रमण = स् + अं+ क् + र् + अ + म् + अ + ण् + अ
धुआँ = ध् + उ + आ + अँ
अज्ञात = अ + ज् + ञ् + आ + त् + अ
मार्मिक = म् + आ + र् + म् + इ + क् + अ
रूपांतरित = र् + ऊ + प् + आ + अं+ त् + अ + र् + इ + त् + अ
सुरक्षित = स् + उ + र् + अ + क् + ष् + इ + त् + अ

वैज्ञानिक चेतना के वाहक चंद्रशेखर वेंकट रामन :

असंख्य = अ + स् + अं+ ख् + य् + अ
समक्ष = स् + अ + म् + अ + क् + ष् + अ
जिज्ञासा = ज् + इ + ज् + ञ् + आ + स् + आ
तिरुचिरापल्ली = त्+ इ + र् + उ + च् + इ + र् + आ + प् + अ + ल् + ल् + ई
शिक्षक = श् + इ + क् + ष् + अ + क + अ
अतिशयोक्ति = अ + त् + इ + श् + अ + य् + ओ + क् + त् + इ
परीक्षा = प् + अ + र् + ई + क् + ष् + आ
समर्पित = स् + अ + म् + अ + र् + प् + इ + त् + अ
समृद्ध = स् + अ + म् + ऋ + द् + ध् + अ
वाद्ययंत्र = व् + आ + द् + य् + अ + य् + अं+ त् + र् + अ
शिक्षाशास्त्री = श् + इ + क् + ष् + आ + श् + आ + स् + त् + र् + ई
सृजित = स् + ऋ + ज् + इ + त् + अ ।
प्रत्यक्ष = प् + र + अ + त् + य् + अ + क् + ष् + अ
कृत्रिम _ = क् + ऋ + त् + र् + इ + म् + अ
आह्लादित = आ + ह् + ल् + आ + द् + इ + त् + अ

कीचड़ का काव्य :

आकर्षण = आ + क् + अ + र् + ष् + अ + ण् + अ
यथार्थ = य् + अ + थ् + आ + र् + थ् + अ
पचिह्न = प् + अ + द् + अ + च् + इ + ह् + न् + अ
घृणास्पद = घ् + ऋ + ण् + आ + स् + प् + अ + द् + अ
श्वेत = श् + व् + ए + त् + अ
सौंदर्य = स् + औ + अं(अ + न्) + द् + अ + र् + य् + अ
तृप्ति = त् + ऋ + प् + त् + इ
मातुश्री = म् + आ + त् + उ + श् + र् + ई

धर्म की आड़ :

दुरुपयोग = द् + उ + र् + उ + प् + अ + य् + ओ + ग् + अ
अट्टालिका = अ + ट् + ट् + आ + ल् + इ + क् + आ
स्वार्थ = स् + व् + आ + र् + थ् + अ
विरुद्ध = व् + इ + र् + उ + द् + ध् + अ
प्रपंच = प् + र् + अ + प् + अं+ च् + अ
शुद्धाचरण = श् + उ + द् + ध् + आ + च् + अ + र् + अ + ण् + अ
अपवित्र = अ + प् + अ + व् + इ + त् + र् + अ
मनुष्यत्व = म् + अ + न् + उ + ष् + य् + अ + त् + व् + अ

शुक्रतारे के समान :

नक्षत्र = न् + अ + क् + ष् + अ + त् + र् + अ
संक्षिप्त = स् + अं+ क् + ष् + इ + प् + त् + अ
द्वारकादास = द् + व् + आ + र् + अ + क् + आ + द् + आ + स् + अ
विद्यार्थी = व् + इ + द् + य् + आ + र् + थ् + ई
मंत्रमुग्ध = म् + अं+ त् + र् + अ + म् + उ + ग् + ध् + अ
भर्तृहरि = भ् + अ + र् + त् + ऋ + ह् + अ + र् + इ
स्वतंत्रता = स् + व् + अ + त् + अं + त् + र् + अ + त् + आ
संपादक = स + अं+ प् + आ + द् + अ + क् + अ
आश्रम = आ + श् + र् + अ + म् + अ
भ्रमण = भ् + र् + अ + म् + अ + ण् + अ
शीर्षक = श् + ई + र् + ष् + अ + क् + अ
अद्यतन = अ + द् + य् + अ + त् + अ + न् + अ

अभ्यास प्रश्न

प्रश्नः 1.
निम्नलिखित शब्दों के वर्ण-विच्छेद कीजिए –

  1. असंख्य
  2. रहस्य
  3. प्रकृति
  4. भावुक
  5. जिज्ञासा
  6. प्रतिभा
  7. रुझान
  8. फुर्सत
  9. नितांत
  10. समृद्ध
  11. आकृष्ट
  12. सृजित
  13. प्रसिद्ध
  14. अक्षुण्ण
  15. आकर्षक
  16. अंकित
  17. अल्पोक्ति
  18. आह्लाद
  19. उत्पाद
  20. स्वार्थ
  21. प्रपंच
  22. नक्षत्र
  23. अग्रगण्य
  24. अद्यतन

उत्तरः

  1. अ + स् + अं+ ख् + य् + अ
  2. र् + अ + ह् + अ + स् + य् + अ
  3. प् + र् + अ + क् + ऋ + त् + इ
  4. भ् + आ + व् + उ + क् + अ
  5. ज् + इ + ज् + ञ् + आ + स् + आ
  6. प् + र् + अ + त् + इ + भ् + आ
  7. र् + उ + इ + आ + न् + अ
  8. फ् + उ + र् + स् + अ + त् + अ
  9. न् + इ + त् + आ + अं + त् + अ
  10. स् + अ + म् + ऋ + द् + ध् + अ
  11. आ + क् + ऋ + ष् + ट् + अ
  12. स् + ऋ + ज् + इ + त् + अ
  13. प् + र् + अ + स् + इ + द् + ध् + अ
  14. अ + क् + ष् + उ + ण् + ण् + अ
  15. आ + क् + अ + र् + ष् + अ + ण् + अ
  16. अं+ क् + इ + त् + अ
  17. अ + ल् + प् + ओ + क् + त् + इ
  18. आ + ह् + ल् + आ + द् + अ
  19. उ + त् + प् + आ + द् + अ
  20. स् + व् + आ + र् + थ् + अ
  21. प् + र् + अ + प् + अं + च् + अ
  22. न् + अ + क् + ष् + अ + त् + र् + अ
  23. अ + ग् + र् + अ + ग् + अ + ण् + य् + अ
  24. अ + द् + य् + अ + त् + अ + न् + अ

प्रश्नः 2.
निम्नलिखित वर्ण-विच्छेदों के लिए शब्द लिखिए

  1. अ + भ् + इ + ज् + आ + त् + अ
  2. प् + र् + अ + स् + आ + ध् + अ + न् + अ
  3. स् + अं + स् + अ + र् + ग् + अ
  4. अ + स् + आ + र् + अ + त् + आ
  5. व् + य् + अ + ज् + अ + न् + आ
  6. य् + अ + थ् + आ + र् + थ् + अ + व् + आ + द् + ई
  7. अ + न् + उ + भ् + ऊ + त् + इ
  8. व् + य् + अ + व् + अ + ध् + आ + न् + अ
  9. न् + इ + र् + व् + आ + ह् + अ
  10. आ + क् + अ + र् + ष् + इ + त् + अ
  11. स् + औ + ह् + आ + र् + द् + अ
  12. स् + अं+ क् + र् + अ + म् + अ + ण् + अ
  13. श् + ओ + ध् + अ + क् + आ + र् + य् + अ
  14. व् + ऐ + ज् + ञ् + आ + न् + इ + क् + अ

उत्तरः

  1. अभिजात
  2. प्रसाधन
  3. संसर्ग
  4. असारता
  5. व्यंजना
  6. यथार्थवाची
  7. अनुभूति
  8. व्यवधान
  9. निर्वाह
  10. आकर्षित
  11. सौहार्द
  12. संक्रमण
  13. शोधकार्य
  14. वैज्ञानिक

विभिन्न परीक्षाओं में पूछे गए प्रश्न

निम्नलिखित शब्दों का वर्ण-विच्छेद कीजिए –

  1. देशभक्ति, काव्य
  2. हिंदुस्तान, आर्यावर्त
  3. न्याय, वृद्धा
  4. प्रायोगिक, मातुश्री
  5. प्रस्तुति, क्षेत्रफल
  6. संदिग्ध, श्रेणियाँ
  7. प्रकृति, दिल्ली
  8. विज्ञापित, क्रमित
  9. संपादन, वैज्ञानिक
  10. विच्छेद, समाहार
  11. पार्थिव, विक्रेता
  12. मनुष्यता, राजनीति
  13. विस्तृत श्रमसाध्य
  14. वृष्टि परिभाषा
  15. मक्खन, सूर्योदय
  16. गोधूलि, कृष्ण
  17. विद्यालय, शिक्षक
  18. रूपांतरित, घृणा
  19. संस्कृति, कलाभिज्ञ
  20. कला, नेतृत्व
  21. आविष्कार, व्यंजित
  22. स्वर्ग, सभ्यता
  23. शिक्षाशास्त्री, सहानुभूति
  24. स्त्री, नक्षत्र
  25. नास्तिक श्रद्धा
  26. हत्याकांड वैज्ञानिक

उत्तरः

  1. द् + ए + श् + अ + भ् + अ + क् + त् + इ
  2. ह् + इ + न् + द् + उ + स् + त् + आ + न् + अ क् + आ + व् + य् + अ
    आ + र् + य् + आ + व् + अ + र् + त् + अ
  3. न् + य् + आ + य् + अ
  4. प् + र् + आ + य् + ओ + ग् + इ + क् + अ . व् + ऋ + द् + ध् + अ
    म् + आ + त् + उ + श् + र् + ई
  5. प् + र् + अ + स् + त् + उ + त् + इ
  6. स् + अं + द् + इ + ग् + ध् + अ क् + ष् + ए + त् + र् + अ + फ् + अ + ल् + अ
    श् + र् + ए + ण् + इ + य् + आ + अँ
  7. प् + र् + अ + क् + ऋ + त् + इ
  8. व् + इ + ज् + ञ् + आ + प् + इ + त् + अ द् + इ + ल् + ल् + ई
    क् + र् + अ + म् + इ + त् + अ
  9. स + अं(अ + म्)प् + आ + द् + अ + न् + अ
  10. व् + इ + च् + छ् + ए + द् + अ व् + ऐ + ज् + ञ् + आ + न् + इ + क् + अ
    स् + अ + म् + आ + ह् + आ + र् + अ
  11. प् + आ + र् + थ् + इ + व् + अ
  12. म् + अ + न् + उ + ष् + य् + अ + त् + व् + अ व् + इ + क् + र् + ए + त् + आ
    र् + आ + ज् + अ + न् + ई + त् + इ
  13. व् + इ + स् + त् + ऋ + त् + अ
  14. व् + ऋ + ष् + ट् + इ श् + र् + अ + म् + अ + स् + आ + ध् + य् + अ
    प् + अ + र + इ + य् + आ + ष् + आ
  15. म् + अ + क् + ख् + अ + न् + अ
  16. ग् + ओ + ध् + ऊ + ल् + इ स् + ऊ + र् + य् + ओ + द् + अ + य् + अ
    क् + ऋ + ष् + ण् + अ
  17. व् + इ + द् + य + आ + ल् + अ + य् + अ
  18. र् + ऊ + प् + आ + अं+ त् + अ + र् + इ + त् + अ श् + इ + क् + ष + अ + क् + अ
    घ् + ऋ + ण् + आ
  19. स् + अं+ स् + क् + ऋ + त् + इ
  20. क् + अ + ल् + आ क् + अ + ल् + आ + भ् + इ + ज् + ञ् + अ
    न् + ए + त् + ऋ + त् + व् + अ
  21. आ + व् + इ + ष् + क् + आ + र् + अ
  22. स् + व् + अ + र् + ग् + अ व् + य् + अं+ ज् + इ + त् + अ
    स् + अ + भ् + य् + अ + त् + आ
  23. श् + इ + क् + ष् + आ + श् + आ + स् + त् + र् + ई ..
    स् + अ + ह् + आ + न् + उ + भ् + ऊ + त् + इ
  24. स् + त् + र् + ई
    न् + अ + क् + ष् + अ + त् + र् + अ
  25. न् + आ + स् + त् + इ + क् + अ
    श् + र् + अ + द् + ध् + आ
  26. ह् + अ + त् + य् + आ + क् + आ + अं+ इ + अ
    ब् + ऐ + ज् + ञ् + आ + न् + इ + क् + अ

The Complete Educational Website

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *