NCERT Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 5 The Summit Within

NCERT Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 5 The Summit Within

Click here to get access to the best NCERT Solutions for Class 8 English. Each and every question of NCERT Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 5 The Summit Within has been answered with easy to download solutions in PDF format.

The Summit Within NCERT Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 5

The Summit Within NCERT Text Book Questions and Answers

The Summit Within Comprehension check (Page 80) 

Question 1.
Standing on Everest, the writer was ………
(i) overjoyed.
(ii) very sad.
(iii) jubilant and sad.
Choose the right item.
Answer:
(iii) jubilant and sad.

Question 2.
The emotion that gripped him was one of
(i) victory over hurdles.
(ii) humility and a sense of smallness.
(iii) greatness and self-importance.
(iv) joy of discovery.
Choose the right item.
Answer:
(ii) humility and a sense of smallness

Question 3.
“The summit of the mind” refers to
(i) great intellectual achievements.
(ii) the process of maturing mentally and spiritually.
(iii) overcoming personal ambition for common welfare.
(iv) living in the world of thought and imagination.
(v) the triumph of mind over worldly pleasures for a noble cause.
(vi) a fuller knowledge of oneself.
Mark the items(s) not relevant.
Answer:
(vi) a fuller knowledge of oneself.

The Summit Within Working With the Text (Page 81)

Question 1.
Answer the following questions:

(i) What are the three qualities that played a major role in the author’s climb?
Answer:
Endurance, persistence and will power these are the three qualities that played a major role in the author’s climb. Their demonstration is must, however.

(ii) Why is adventure, which is risky, also pleasurable ?
Answer:
On completion of an adventure one feels everlasting joy of a lift time. The feelings of a unique triumph and of happiness are felt. Thats why though risky an adventure is also pleasurable.

(iii) What was it about Mount Everest that the author found irresistable ?
Answer:
The Mount Everest is the highest peak in the world. It is the mightiest ever and a numerous climbers had scaled it unsuccessfully before the author’s expedition. It is found irresistible.

(iv) One does not do it (climb a high peak) for fame alone. What does one do it for, really?
Answer:
However, one climbs a high peak with an adventure within him but the feeling of communion and the eternal love attract him towards the indispensable deed. No doubt, it is the toughest job with the courage at the stake.

(v) He becomes conscious in a special manner of his own smallness in this large universe’. This awareness defines an emotion mentioned in the first paragraph. Which is the emotion ?
Answer:
That emotion is ‘humility’.

(vi) What were the ‘symbols of reverence’ left by members of the team on Everest ?
Answer:
The ‘symbols of reverence’ are following:
(i) a pic of Guru Nanak
(ii) a pic of Goddess Durga
(iv) a relic of Buddha
(iv) a Cross

(vii) What, according to the writer, did his experience as an Everester teach him ?
Answer:
One must face the life’s painful experience with firmness of mind and determination of the soul.

Question 2.
Write a sentence against each of the following statements. Your sentence should explain the statement. You can pick out sentences from the text and rewrite them. The first one has been done for you.
(i) The experience changes you completely. One who has been to the mountains is never the same again.
(ii) Man takes delight in overcoming obstacles.
(iii) Mountains are nature at its best.
(iv) The going was difficult but the after-effects were satisfying.
(v) The physical conquests of a mountain is really a spiritual experience.
Answer:
(ii) Overcoming obstacles satisfies man’s deep desire to rise above the surroundings.
(iii) They are the means of communion with god.
(iv) The party got a sense of fulfilment.
(v) It shakes our spirit and takes us to victory up to the top.

The Summit Within Working With Language (Page – 82)

Question 1.
Look at the italicised phrases and their meanings given in brackets.

Mountains are nature at its best. (nature’s best form and appearance)
Your life is at risk. (in danger; you run the risk of losing your life.)
He was at his best/ worst in the last meeting. (it was his best/ worst performance.)

Fill in the blanks in the following dialogues choosing suitable phrases from those given in the box.

at hand, at once, at all ,at a low ebb, at first sight

(i) Teacher: You were away from school without permission. Go to the principal ……… and submit your explanation.
Pupil : Yes, Madam. But would you help me write it first ?

(ii) Arun: Are you unwell ?
Ila : No, not ………….. Why do you ask ?
Arun : If you were unwell, I would send you to my uncle.
He is a doctor.

(iii) Mary: Almost every Indian film has an episode of love ………….
David : Is that what makes them so popular in foreign countries ?

(iv) Asif : You look depressed. Why are your spirits …………….. today ? (Use such in the phrase)
Ashok : I have to write ten sentences using words that I never heard before.

(v) Shieba : Your big moment is close ………….
Jyoti : How should I welcome it?
Shieba : Get up and receive the trophy.
Answer:
(i) at once
(ii) at all
(iii) at first right
(iv) at a low ebb
(v) at hand

Question 2.
Write the noun forms of the following words adding -ance or -ence to each.
(i) endure………
(ii) persist ………………
(iii) signify ………..
(iv) confide ……………….
(v) maintain ………..
(vi) abhor ………….
Answer:
(i) endurance
(ii) persistence
(iii) significance
(iv) confidence
(v) maintenance
(vi) abhorrence

Question 3.
(i) Match words under A with their meanings under B.

A B
remote difficult to overcome
means most prominent
dominant overcome/overpowered
formidable method (s)
overwhelmed far away from

Answer:

A B
remote far away from
means method (s)
dominant difficult to overcome
formidable most prominent
overwhelmed overcome/overpowered

(ii) Fill in the blanks in the sentences below with appropriate words from under A.
(a) There were ………………. obstacles on the way, but we reached our destination safely.
(b) We have no …………………. of finding out what happened there.
(c) Why he lives in a house ………… from any town or village is more than I can
(d) ………………. by gratitude, we bowed to the speaker for his valuable advice.
(e) The old castle stands in a ……………… position above the sleepy town.
Answer:
(a) dominant
(b) means
(c) remote
(d) overwhelmed
(e) formidable

The Summit Within Speaking and Writing (Page-83)

Write a composition describing a visit to the hills, or any place which you found beautiful and inspiring. Before writing, work in small groups. Discuss the points given below and decide if you want to use some of these points in your composition.

(i) Consider this sentence
Mountains are a means of communion with God.

(ii) Think of the act of worship or prayer. You believe yourself to be in the presence of
the divine power. In a way, you are in communion with that power.

(iii) Imagine the climber on top of the summit-the height attained; limitless sky above;
the climber’s last ounce of energy spent; feelings of gratitude, humility and peace.

(iv) The majesty of the mountains does bring you close to nature and the spirit and joy
that lives there, if you have the ability to feel it. Some composition may be read aloud to the entire class afterwards.
Answer:
A Visit to A Hill Station
Mountains are means of communion with God. Last year I went to Shimla with my uncle. There we visited Kali Bari Mandir. It was at the height of 3500 ft from the ground. What a beautiful temple it was! I felt myself in the presence of the divine power. At such an height, one can’t help one with dreary of his thoughts. I found in the lap of some divine power that kept me alert and awake on such a high mountains. The limitless sky was very near to us. The height had pulled out the last ounce of our energy but the visit paid is worth remembering in our hearts. Tara Devi temple was the other temple we visited there with the devotion of heart-felt feelings. May goddess bless everyone with such an opportunity.

The Summit Within Introduction

Major H.P.S. Ahluwalia was a member of the first successful Indian expedition to Mount Everest in 1965. He felt elated when he stood on the highest point in the world. The lesson “The Summit Within’ depicts the courageous and adventurous story by Major him-self and narrated the most difficult task of climbing the summit.

The Summit Within Word Notes

NCERT Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 5 The Summit Within

The Summit Within Complete Hindi Translation (Page 76)

मेजर एच पी एस आहलूवालिया सन 1965 में एवरेस्ट पर प्रथम सफल भारतीय पर्वत अभियान के एक सदस्य थे। उन्होंने कैसा महसूस किया जब वे संसार के सर्वोच्च बिन्दु पर खड़े थे? आओ हम उनकी कहानी उनकी जुबानी सुनें-चोटी पर पहुँचना और तब, उससे भी अधिक मुश्किल कार्य भीतरी चोटी पर चढ़ना रहा था।

1. Of all. …to climb. (Page 76)

एवरेस्ट की चोटी पर जव मैं खड़ा था, नीचे मीलों दूर तक फैला दृश्य देख रहा था तो मेरे मन में जितनी भी भावनाएँ उठीं उनमें प्रमुखतया विनम्रता का विचार था। मेरा शरीर कह रहा थाः “ईश्वर का धन्यवाद, यात्रा समाप्त हो गई है।” पर बहुत अधिक खुश होने की बजाय मन में एक उदासी का भी भाव था। इसका क्या यही कारण था कि मैंने सबसे ऊँची चढ़ाई तय कर ली थी और अब आगे चढ़ने के लिये कोई दूसरी पर्वत चोटी नहीं रहेगी, और इसके पश्चात् सभी रास्ते नीचे की ओर ही जायेंगे?

एवरेस्ट शिखर पर पहुँचकर आपके मन में हर्ष तथा कृतज्ञता की गहरी भावना जग जाती है। यह खुशी जीवनपर्यंत बनी रहने वाली होती है। यह अनुभव आपको पूरी तरह से बदल देता है। जो व्यक्ति पर्वतों में घूम आया है, वह कभी भी पहले सा नहीं रह सकता। एवरेस्ट विजय कर लेने के पश्चात् जब मैं पीछे मुड़ कर देखता हूँ तो मैं एक दूसरी चोटी का जिक्र किये बिना नहीं रह सकता-मन की चोटी-जो कोई कम कठिन नहीं है, तथा जिसपर विजय पाना सहज नहीं।

2. Even when. …………..me also. (Page 77)

चोटी से नीचे उतरते समय जब शारीरिक थकान उतर गई तो मैंने अपने आपसे एक प्रश्न किया कि मैंने एवरेस्ट पर चढ़ना क्यों स्वीकार किया था? चोटी पर पहुंचने की प्रक्रिया ने मेरी कल्पना शक्ति पर इतनी मजबूत पकड़ क्यों बना ली थी? अब वह बात तो गुजरे जमाने की हो गई, ऐसी जो अभी कल ही हुई हो! हर दिन व्यतीत होने पर यह और अधिक दूर होती जायेगी।

और तब शेष क्या बचेगा? क्या मेरी स्मृतियाँ धुंधली पड़ती जायेंगी? इन सभी विचारों ने मुझे स्वयं से यह प्रश्न पूछने को प्रेरित किया कि लोग पर्वतों पर क्यों चढ़ते हैं? इस प्रश्न का उत्तर देना सरल नहीं। सरलतम उत्तर यह होगा, जैसा कि लोगों ने बताया है, “क्योंकि पर्वत वहाँ है।” वह काफी कठिनाइयाँ पेश करता है। मनुष्य को रुकावटों पर काबू पाने में आनन्द होता है। किसी पर्वतारोहण में बाधायें शारीरिक होती हैं। शिखर पर चढ़ाई करने का अर्थ है सहनशक्ति, दृढ़ता तथा इच्छाशक्ति। इन भौतिक गुणों का प्रदर्शन निःसन्देह खुशी देने वाला होता है, और मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ।

3. I have a……………………happiness. (Page 77)

मेरे पास इस प्रश्न का एक व्यक्तिगत उत्तर है। बचपन से ही मेरे मन में पर्वतों का खिंचाव रहा है। पर्वतों से दूर मैदानों में जाने पर मैं दुःखी हो जाता था। पर्वत प्रकृति का सर्वश्रेष्ठ रूप हैं। उनका सौंदर्य तथा भव्यता एक चुनौती प्रस्तुत करते हैं, तथा दूसरे लोगों की भांति मैं भी मानता हूँ कि पर्वत ईश्वर से निकटस्थ संबंध बनाने का साधन हैं। … एक बार यह स्वीकार कर लेने के पश्चात् प्रश्न बना ही रहता है: एवरेस्ट ही क्यों? क्योंकि यह सर्वोच्च है? सबसे कठोर है तथा अनेक विगत प्रयासों का विरोध कर चुका है।

इस पर पहुँचने में व्यक्ति की क्षमता चुक जाती है। चट्टानों और बर्फ से कठोर संघर्ष करना पड़ता है। एक बार सोच लिया जाए तो उसे आधे रास्ते में छोड़ा नहीं जा सकता जबकि व्यक्ति का अपना जीवन ही दाँव पर लगा होता है। आगे बढ़ने का मार्ग जितना दुष्कर होता है, उतना ही कठिन वापिस लौटना। और फिर जब चोटी पर विजय पा ली हो तो बेहद खुशी होती है कि हमने कोई बहुत बड़ा काम कर लिया है, किसी लड़ाई जीतने की सी भावना। विजय तथा हर्ष की भावना जागृत हो जाती है।

4. Glimpsing a………………possible. (Pages 77-78)

जब मैं दूर स्थित किसी पर्वत चोटी को निहारता हूँ तो मैं दूसरे लोक में पहुँच जाता हूँ। अपने अन्दर जो बदलाव मैं महसूस करता हूँ उसे आध्यात्मिक कहा जा सकता है। अपनी सुन्दरता, अलगाव, शक्ति, विकृत वन तथा मार्ग की कठिनाइयों के कारण पर्वत चोटी मुझे आकर्षित करती है-जैसा एवरेस्ट ने किया। इस चुनौती को अस्वीकार करना कठिन कार्य है।पीछे मुड़कर देखता हूँ तो पाता हूँ कि मैंने अभी तक यह तो बताया नहीं कि मैंने एवरेस्ट पर चढ़ाई क्यों की? यह बताना उतना ही कठिन है जिसका यह बताना कि आप साँस क्यों लेते हैं? आप अपने पड़ोसी की मदद क्यों करते हैं? आप अच्छे काम करना क्यों चाहते हैं? इन सबका कोई अंतिम उत्तर दे पाना संभव नहीं है।

5. And then ……………… spiritual. (Page 78)

और फिर यह बात भी है कि एवरेस्ट पर चढ़ना केवल शारीरिक चढ़ाई नहीं। जो व्यक्ति पर्वत चोटी पर पहुंच चुका है वह इस विशाल ब्रह्माण्ड में स्वयं अपने छोटेपन का अहसास कर लेता है। पर्वत पर भौतिक विजय पाना उपलब्धि का केवल एक भाग है। इसका महत्त्व कहीं अधिक है। इस विजय के कारण पूर्ति की भावना जगती है। अपने वातावरण के ऊपर उठने की गहरी इच्छा को संतोष मिलता है। यह भावना व्यक्ति में साहसिक कार्यों के प्रति अपार प्रेम का सूचक है। यह अनुभव मात्र शारीरिक नहीं है। यह भावनात्मक है। यह आध्यात्मिक है।

6. Consider ……………the summit. (Pages 78-79)

शिखर पर चढ़ाई के अंतिम प्रयास की कल्पना कीजिए। आप किसी अन्य के साथ रस्सी पकड़े हुए हैं। आप स्वयं वहाँ मजबूती से खड़े हैं। दूसरा व्यक्ति सख्त बर्फ में सीढ़ियाँ काटता है। फिर वह रस्से को बाँधता है। आप धीरे-धीरे ऊपर चढ़ते हैं। चढ़ाई बहुत कठोर है। आप हर कदम उठाने के लिये पूरी ताकत लगाते हैं। प्रसिद्ध पर्वतारोहियों ने अन्य लोगों द्वारा दी गई सहायता का विवरण हमें दिया है। उन्होंने यह भी बताया है कि किस प्रकार उन्हें उसी सहायता की आवश्यकता थी। अन्यथा उन्होंने अपना प्रयास छोड़ दिया होता। साँस लेना दुष्कर है। आप स्वयं को कोसते हैं कि इस काम में अपनी टाँग क्यों फँसाई।

आप को आश्चर्य होता है कि आपने चढ़ाई का काम स्वीकार ही क्यों किया। ऐसे क्षण आते हैं जब आपके मन में वापिस लौट जाने की इच्छा प्रबल हो जाती है। ऊपर चढ़ने की अपेक्षा नीचे उतरना बहुत राहत देगा। पर तभी यकायक उस मनोदशा से बाहर निकल आते हैं। आपके अन्दर कुछ ऐसा है जो आपको संघर्ष से भागने नहीं देता और आप आगे बढ़ चलते हैं। आपका साथी भी आपका साथ देता है। 50 फुट और अथवा 100 फुट। आप स्वयं से पूछते हैं। क्या इस चढ़ाई का कभी अंत भी होगा? आप अपने साथी की ओर देखते हैं। और वह आपकी ओर आपको एक दूसरे से प्रेरणा मिलती है। और तभी, अनजाने में ही आप स्वयं को चोटी पर पहुँचा पाते हैं।

7. Looking……………….. reverence. (Page 79)

चोटी से चारों ओर निगाह डालकर आप अपने को बताते हैं कि यह भ्रम उचित ही था। बादलों के बीच से कुछ और चोटियाँ दिखाई देती हैं। यदि आपकी किस्मत ने साथ दिया तो उन पर धूप पड़ रही होती है। चारों ओर चोटियाँ ऐसी ही दिखती हैं मानो चोटी के गले में हीरा-जड़ित कंठहार हो। आपको नीचे दूर ढलानों के नीचे घाटियाँ दिखाई देती हैं। पर्वत की चोटी से नीचे देखना उदासी भरा होता है। आप शीश झुका लेते हैं तथा जिस भी परमात्मा के आप उपासक हैं, उसे नमन कर पाते हैं।

मैं चोटी पर गुरूनानक का चित्र छोड़ आया। रावत ने दुर्गा का चित्र रखा। फू डोरजी ने बुद्ध का एक चिह्न वहाँ छोड़ा। एडमंड हिलेरी ने बर्फ में पत्थरों के ढेर के नीचे क्रास रख दिया था। ये विजय के चिह्न नहीं थे बल्कि आदर, श्रद्धा के प्रतीक हैं।

8. The experience…..Everest. (Pages 79-80)

एवरेस्ट शिखर पर पहुँचने का अनुभव आपको बदल देता है, पूर्ण रूप से।एक अन्य चोटी भी है। वह हमारे अन्दर है। यह आपके मन में होती है। हर व्यक्ति के अपने अन्दर एक पर्वत चोटी है। उसे पूरा आत्मज्ञान पाने के लिये उस शिखर पर पहुँचना होता है। वह डरावना है, उस पर पहुँच पाना असंभव है। उसे कोई अन्य व्यक्ति जीत नहीं सकता। वह तो आपको स्वयं ही जीतनी है। बाहर पर्वत शिखर पर चढ़ाई का भौतिक प्रयास अपने अन्दर के पर्वत की चढ़ाई के समान होता है।

दोनों प्रकार के आरोहणों का प्रभाव एक-सा होता है। आप जिस भी पर्वत पर चढ़ते हैं। वह चाहे शारीरिक हो, भावनात्मक हो अथवा आध्यात्मिक, यह आरोहण आपको बदल देगा। यह आपको विश्व के बारे में तथा स्वयं अपने बारे में बहुत कुछ सिखा देता है। मैं यह सोचने का साहस कर सकता हूँ कि एवरेस्ट विजेता के रूप में मेरे अनुभव ने मुझे जीवन की कठिनाइयों का सामना करने की प्रेरणा दी है। पर्वत पर चढ़ाई एक सार्थक अनुभव रहा। अपने आंतरिक शिखर पर विजय पाना भी बराबर सार्थक अनुभव है। अपने आन्तरिक शिखर शायद एवरेस्ट से भी अधिक ऊँचे हैं।

MCQs Multiple Choice Questions

Question 1.
How did the narrator feel while standing on top of Mt. Everest?
(a) proud
(b) humble
(c) dominant
(d) none of these
Answer:
(b) humble

Question 2.
What is the main quality that played a major role in the author’s climb ?
(a) physical power
(b) strong muscles
(c) endurance
(d) none of the above
Answer:
(c) endurance

Question 3.
Which word in the passage means ‘highest point ?
(a) overwhelmed
(b) top of a tree
(c) none of the above
(d) summit
Answer:
(d) summit

Question 4.
What has the author left on Mr. Everest as a ‘symbol of reverence’?
(a) a pic. of Durga
(b) a cross
(c) a pic. of Guru Nanak
(d) a relic of Buddha.
Answer:
(c) a pic. of Guru Nanak

Question 5.
Which word in the text means ‘very exciting’?
(a) exhaustion
(b) persistence
(c) exhilarating
(d) endurance.
Answer:
(c) exhilarating

The Complete Educational Website

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *