NCERT Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 4 Bepin Choudhury’s Lapse of Memory

NCERT Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 4 Bepin Choudhury’s Lapse of Memory

Click here to get access to the best NCERT Solutions for Class 8 English. Each and every question of NCERT Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 4 Bepin Choudhury’s Lapse of Memory has been answered with easy to download solutions in PDF format.

Bepin Choudhury’s Lapse of Memory NCERT Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 4

Bepin Choudhury’s Lapse of Memory NCERT Text Book Questions and Answers

Bepin Choudhury’s Lapse of Memory Comprehension check (Page 62)

Question 1.
Why did the man stare at Bepin Babu in disbelief ?
Answer:
The man reminded Bepin Babu of was trip to Roneh. But Bepin Babu denied of his visit. This made the man. Therefore, he was staring at him in disbelief.

Question 2.
Where did Bepin Babu say he went in October ’58 ?
Answer:
Bepin Babu said that he had gone to Kanpur at his friend’s place in October 58.

Question 3.
Mention any three (or more) things that Parimal Ghose knew about Bepin Babu.
Answer:
Parimal Ghose knew that Bepin Babu always carries a bag of books with him, he had no children, he had lost his wife 10 years ago and his only brother died insane.

Bepin Choudhury’s Lapse of Memory Comprehension check (Page 65)

Question 1.
Why did Bepin Babu worry about what Parimal Ghose had said ?
Answer:
He was worried as all those were intimate personal details which only a close person could know. Moreover, Bepin Babu did not know the man Parimal Ghose.

Question 2.
How did he try to decide who was right-his memory or Parimal Ghose ?
Answer:
He decided to call Dinesh Mukerji who was there with him at that time at Ranchi.
He would decide what was right.

Question 3.
Why did Bepin Babu hesitate to visit Mr. Mukerji? Why did he finally decide to phone him?
Answer:
He thought that if he visits Dinesh and confirms the trip, he would think him insane. Moreover, he could not take his ruthless sarcasm. In order to know about the truth, he finally decided to call him.

Question 4.
What did Mr Mukerji say? Did it comfort Bepin Babu, or add to his worries?
Answer:
Dinesh Mukerji confirmed that he was there in Ranchi in ’58 with him. It makes
Bepin Babu more worried as he could not remember that episode.

Bepin Choudhury’s Lapse of Memory Comprehension check (Page 68)

Question 1.
Who was Chuni Lal ? What did he want from Bepin Babu ?
Answer:
Chuni Lal was Bepin Babu’s school friend. He wanted some help to get a job from his friend as he was jobless these days.

Question 2.
Why was Dr. Chanda puzzled ? What was unusual about Bepin Babu’s loss of memory ?
Answer:
Dr. Chanda had never experienced such type of a case about loss of memory. Bepin Babu had forgotten only one incident. It was unusual about his loss of memory.

Bepin Choudhury’s Lapse of Memory Comprehension check (Page 70)

Question 1.
Had Bepin Babu really lost his memory and forgotten all about a trip to Ranchi?
Answer:
No, Bepin Babu had not forgotten anything. Chuni Lal made his plan to teach him a lesson. Bepin Babu had never been to Ranchi.

Question 2.
Why do you think Chuni Lal did what he did? Chuni Lal says he has no money; what is it that he does have ?
Answer:
Bepin Babu had not helped Chuni Lal in getting a job in his hard times. Chunilal has no money but he possesses a good memory. He did all to teach him a lesson.

Bepin Choudhury’s Lapse of Memory Working With the Text (Page 70)

Question 1.
The author describes Bepin Babu as a serious and hardworking man. What evidence can you find in the story to support this ?
Answer:
Bepin Babu did not like mixing with people, had a few friends, lived alone and didn’t like spending time in idle conversation. He had been working for a big firm for the past more than 2 decades. Moreover, he had a reputation for being a conscientious worker.

Question 2.
Why did Bepin Babu change his mind about meeting Chuni Lal ? What was the result of this meeting ?
Answer:
Bepin Babu thought that Chuni Lal would remember something about his Ranchi trip in 1958. Chuni Lal confirmed his visit to Ranchi in ’58. Moreover he also informed that it was he who arranged for his ticket to Ranchi and got one of the fans repaired in his railway boggy.

Question 3.
Bepin Babu lost consciousness at Hudroo Falls. What do you think was the reason for this ?
Answer:
Bepin Babu went to Hudroo Falls. But he could not find any clue which could remind him that he had been there in Ranchi earlier. He thought he had no hope left and soon would lose everything. At that moment he got depressed and lost his mind. It overburdened him with the thought of loss of memory.

Question 4.
How do you think Bepin Babu reacted when he found out that Chunni Lal had tricked him ?
Answer:
I think that Bepin Babu must have regretted for not doing anything for his old friend Chuni Lal who was going through tough time.

Bepin Choudhury’s Lapse of Memory Working With Language (Page-71)

Question 1.
Look at these two sentences.
• He had to buy at least five books to last him through the week.
• Bepin had to ask Chuni to leave.
Had to is used to show that it was very important or necessary for Bepin Babu to do something. He had no choice. We can also use ‘have to’/has to’ in the same way. Fill in the blanks below using ‘had to’l ‘have to’l ‘has to’ :
(i) I ………………….. cut my hair every month.
(ii) We …………………… go for swimming lessons last year.
(iii) She ……………. tell the principal the truth.
(iv) They ………………….. take the baby to the doctor.
(v) We …………………… complain to the police about the noise.
(vi) Romit …….. finish his homework before he could come out to play.
(vii) I ……… repair my cycle yesterday.
Answer:
(i) have to
(ii) had to
(iii) had to
(iv) had to
(v) had to
(vi) has to
(vii) had to.

Question 2.
Here are a few idioms that you will find in the story. Look for them in the dictionary in the following way. First, arrange them in the order in which you would find them in a dictionary. (Clue: An idiom is usually listed under the first noun, verb, adjective or adverb in it. Ignore articles or prepositions in the idiom). To help you, we have put in bold the word under which you must look for the idiom in the dictionary.)
(i) at/from close quarters – (close : adjective)
(ii) break into a sinile – (break : verb; look under ‘break into something’)
(iii) carry on – (carry : verb)
(iv) have a clean record – (you may find related meanings under both these words)
(iv) beat about the bush – (verb)

Now refer to your dictionary and find out what they mean.
Answer:
(i) At/from close quarters-to stand near somebody to observe something about him
(ii) Break into a smile-to pass instant smile to the other person
(iii) Carry on-to continue in a process
(iv) have a clean record-keep something for reference
(v) Beat about the bush-not to say exactly.

Question 3.
Study the sentences in the columns below.

A B
I saw this movie yesterday. I have seen this movie already.
Bepin Babu worked here for a week last year. Bepin Babu has worked here since 2003.
Chunilal wrote to a publisher last week. Chunilal has written to a publisher.
I visited Ranchi once, long ago. I have visited Ranchi once before.

Compare the sentence in the two columns, especially the verb forms.
Answer the following questions about each pair of sentences.
(i) Which column tells us that Bepin Babu is still working at the same place ?
(ii) Which column suggests that Chuni Lal is now waiting for a reply from the publisher?
(iii) Which column suggests that the person still remembers the movie he saw ?
(iv) Which column suggests that the experience of visiting Ranchi is still fresh in the speaker’s mind ?
Answer:
(i) Column B
(ii) Column A
(iii) Column B
(iv) Column B

Question 4.
Given below are jumbled sentences. Working in groups, rearrange the words in each sentence to form correct sentences.
You will find that each sentence contains an idiomatic expression that you have come across in the lesson. Underline the idiom and write down its meaning. Then use your dictionary to check the meaning.
One sentence has been worked out for you as an example.
Jumbled sentence: vanished/The car/seemed to/into thin/have/air.
Answer:
The car seemed to have vanished into thin air.
Idiom: vanished into thin air— disappeared or vanished in a mysterious way

(i) Stop/and tell me/beating about/what you want/the bush
Ans: …………………….
Idiom : ……………………….

(ii) don’t pay/if you/attention/you might/the wrong train/to the announcement/board
Ans: …………………….
Idiom : ……………………….

(iii) The villagers/tried/the crime/on the young woman/to pin
Ans: …………………….
Idiom : ……………………….

(iv) Bepin Babu/orders to/telling people/under/loved/doctor’s/eat early/that he was
Ans: …………………….
Idiom : ……………………….

(v) the students/The teacher/his eyebrows/when/said that/all their lessons/raised/they had revised
Ans: …………………….
Idiom : ……………………….
Answer:
(i) Stop beating about the bush and tell me what you want.
Idiom\ Beating about the bush—not to say exactly.

(ii) If you don’t pay attention to the announcement, you might board the wrong train.
Idiom: Pay attention to—be attentive.

(iiii) The villagers tried to pin the crime on the young woman.
Idiom: To pin the crime— accuse someone for.

(iv) Bepin Babu loved telling people that he has under doctor’s orders to eat early.
Idiom : To eat early—to eat something at quick intervals.

(iv) The teacher raised his eyebrows when the students said that they had visited all their lessons.
Idiom : Raised his eyebrows—to look in surprise or anger.

Bepin Choudhury’s Lapse of Memory Speaking and Writing (Page-73)

Question 1.
What do you think happened after Bepin Babu came to know the truth ? Was he angry with his friend for playing such a trick on him ? or do you think he decided to help a friend in need ?
Answer:
I think Bepin Babu must have regretted his selfish attitude. He was not angry with his friend for playing such a trick on him. He had learnt a lesson from the situation.

Question 2.
Imagine you are Bepin Choudhury. You have recieved Chunilal’s letter and feel ashamed that you did not bother to help an old friend down on his luck. Now you want to do something for him. Write a letter to Chunilal promising to help him soon.
Answer:
Kolkata Dear Chunilal,
Got your letter and noted the contents. Of course, you are angry with me. I feel ashamed for not helping you instantly. You told me that you were down on your luck. Even then I did not pay attention to your request. I am extremely sorry. I have already realized my mistake and lend a helping hand to you. You are requested to tell me how I can help you and in which manner. It will be my great pleasure if I could do something for you.
Yours
Bepin

Or

A prank is a childish trick. Do you remember any incident when someone played a prank on you or your friends ? Describe the prank in a paragraph.
Answer:
A prank is a childish trick played on someone by somebody who is known or unknown to the person. Recall some childhood memory and recollect the ideas in your own language. Try to be brief as the brevity is the soul of your writing. Ask your teacher to help you in this episode writing.

Bepin Choudhury’s Lapse of Memory Introduction

The present story is about Bepin Babu’s lapse of memory. He has never been to Ranchi, though there are many witnesses to the contrary. He goes nearly crazy because he can’t recollect his stay at Ranchi. No doubt forgetfulness often puts one in a tight spot. But forgetting a part of one’s life completely may drive one crazy. Good memory is a blessing whereas bad or missing memory is almost a curse.

Bepin Choudhury’s Lapse of Memory Word Notes

NCERT Solutions for Class 8 English Honeydew Chapter 4 Bepin Choudhury’s Lapse of Memory

Bepin Choudhury’s Lapse of Memory Complete Hindi Translation

Do you have …………….all about. (Page 60)
क्या आपकी याददाश्त अच्छी है ? क्या आपकी याददाश्त ने कभी आपके साथ छल किया है ? कुछ भूलना आपके लिए कई बार मुसीबत खड़ी कर देती है। परंतु अपने जीवन का एक भाग भूलना आपको पागल सा बना सकता है। इस कहानी में, विपिन बाबू लगभग पागल हो जाते हैं क्योंकि रांची में ठहरने का किस्सा वे याद नहीं कर पाते। वे कभी रांची नहीं गए, वे कहते हैं, यद्यपि कुछ गवाह इसके विरोध में उपस्थित हैं। इसका क्या रहस्य है ?

1. Every Monday ………….. Bepin Babu. (Page 60)

प्रत्येक सोमवार, काम से लौटते समय बिपिन चौधरी नये बाजार में स्थित कालीचरण की पुस्तकों की दुकान पर उतरते और कुछ किताबें खरीदते। अपराध कहानियाँ, भूतों की कहानियाँ और रहस्य रोमांच भरी कहानियों की पुस्तकें। एक समय में कम से कम पाँच, पुस्तकें खरीदते ताकि पूरे सप्ताह तक चलें। वह अकेला रहता था, मिलनसार न था, दोस्त कम थे और गपशप में समय बिताना पसंद न था। आज कालीचरण के पास बिपिन बाबू को ऐसा महसूस हुआ कि कोई उसे बहुत करीब से देख रहा था। वह घूमा और पाया कि गोल चेहरे वाला विनम्र सा व्यक्ति उसे घूर रहा था जो अब मुस्कुराने लगा था।“मुझे याद नहीं आता कि आपने मुझे पहचान लिया है।” “त्या हम पहले मिल चुके हैं ?” बिपिन बाबू ने पूछा।

2. The man ……… laughed aloud. (Pages 60-61)

वह आदमी आश्चर्य से देखता रहा। “हम पूरे एक सप्ताह तक प्रतिदिन मिलते रहे हैं। मैंने आपको हुदरू फॉल्स जाने के लिए कार का इंतजाम करवाया था। 1958 में, रांची में। मेरा नाम परिमल घोष है।” “राँची ?”
अब बिपिन बाबू को अहसास हुआ कि वह नहीं बल्कि आदमी गलती कर रहा था। बिपिन बाबू कभी रांची नहीं गए। वह कई बार जाने की कोशिश कर चुका था, परंतु जा नहीं पाया। वह मुस्कराया और बोला, “क्या तुम जानते हो कि मैं कौन हूँ ?” उस आदमी ने अपनी अलकें चढ़ाईं, अपनी जिह्वा काटी और कहा, “क्या मैं आपको जानता हूँ ? बिपिन चौधरी को कौन नहीं जानता ?” ___. बिपिन बाबू पुस्तकों की अलमारी की ओर मुड़े और बोले, “आप अभी भी गलती कर रहे हैं ? कई बार हो जाती है। मैं कभी रांची नहीं गया।”
वह आदमी जोर से हँसा।

3. “What are …. …….. right or not ? (Pages 61-62)

“आप क्या कह रहे हैं, मि. चौधरी ? आप हुदरू में गिर गए थे और आपके दायें घुटने में चोट थी। मैं आपके लिए आयोडीन लाया था। अगले दिन मैंने आपके नेताहाट जाने हेतु एक कार का प्रबंध किया था पर आप घुटने की चोट के कारण नहीं जा पाए थे। आप क्या कुछ याद कर सकते हैं ? उस समय कोई और भी रांची में था, जिसे आप जानते हैं-मि. दिनेश मुखर्जी। आप एक बंगले में ठहरे थे। आपने कहा था कि आपको होटल का खाना पसंद नहीं और बावर्ची द्वारा पकाये गए खाने को प्राथमिकता देंगे। मि. मुखर्जी अपनी बहन के साथ ठहरे थे। याद है मेरी और आपकी चांद पर जाने पर एक बड़ी बहस हुई थी। मैं आपको और बताता हूँ : आप हमेशा एक थैला लेकर चलते थे अपनी किताबों से भरा हुआ, जब भी आप दर्शनीय स्थलों की यात्रा पर जाते थे। क्या मैं सही हूँ या नहीं ?”

4. Bepin Babu ……… disbelief. (Page 62)

बिपिन बाबू सहज भाव से बोले, उनकी नजरें अभी भी पुस्तकों पर थीं।
“58 में किस महीने की आप बात कर रहे हैं ?”
आदमी ने कहा, “अक्टूबर।”
“नहीं, श्रीमान”, बिपिन बाबू ने कहा। “मैंने ’58 में पूजा कानपुर में अपने एक दोस्त के साथ की थी। आप गलती कर रहे हैं। शुभ दिन ।”
परंतु वह आदमी नहीं गया और न ही उसने बोलना बंद किया।
“बेहद आश्चर्य ! एक शाम मैंने आपके साथ आपके बंगले के बरामदे में चाय पी थी। आपने अपने परिवार के बारे में बताया था। आपने कहा था कि आपकी कोई संतान नहीं, आपने पत्नी को 10 वर्ष पूर्व खो दिया था, आपका इकलौता भाई पागलपन से मर गया जिसके कारण आप रांची के पागलखाने को भी नहीं देखना चाहते………।” जब बिपिन बाबू ने अपनी पुस्तकों की कीमत चुकाई और वहाँ से जाने लगे तब भी वह आदमी उन्हें पूरे आश्चर्य से निहार रहा था।

Part – II

1. Bepin Babu’s ……. And yet. (Pages 62-63)

बिपिन बाबू की कार बर्तराम गली में लाइट हाउस सिनेमा के पास सुरक्षित खड़ी की गई थी। कार में बैठते ही उसने ड्राइवर को कहा, “गंगा किनारे चलो, क्या जानते हो, सीताराम।” स्ट्रांड रोड पर चलते समय, बिपिन बाबू को पछतावा हुआ कि उन्होंने उस घुसपैठिए की ओर इतना ध्यान दिया। वह कभी रांची नहीं गया था-इसके बारे में प्रश्न ही नहीं था। यह कोई अकल्पनीय नहीं था कि वह सिर्फ 6 या 7 वर्ष पुरानी घटी हुई घटना को भूल जाए। उसकी याददाश्त बेहतर थी। परंतु बिपिन बाबू का सिर चकरा रहा था। क्या वह भूल रहा था ? परंतु ऐसा कैसे हो सकता था ? वह अपने दफ्तर में प्रतिदिन कार्य कर रहा था। वह एक बड़ी कंपनी थी, और वह एक जिम्मेदारी वाला कार्य था। उसने कभी भी कोई बड़ी गलती नहीं की थी और आज ही उसने आधे घंटे तक एक महत्त्वपूर्ण सभा को संबोधित किया था। और फिर भी

2. “And yet the …… ………… right knee.(Page 63)

और फिर भी वह व्यक्ति उसके बारे में बहुत कुछ जानता था। कैसे ? वह बहुत-सी व्यक्तिगत बातें भी जानता था। पुस्तकों का थैला, पत्नी की मृत्यु, भाई का पागलपन ……… । मात्र उसकी रांची जाने की बात गलत थी। एक भी गलत नहीं था; जान बूझकर बोला गया झूठ। 1958 में, पूजा के दौरान, वह कानपुर में अपने मित्र हरीदास बागची के घर पर था। बिपिन बाबू को जो करना था उसे लिखना-नहीं, हरीदास को लिखने का कोई तरीका न था। बिपिन बाबू को अचानक स्मरण आया कि हरीदास अपनी पत्नी के साथ कुछ सप्ताह पहले ही जापान जा चुका था और उसके पास उसका पता भी न था।
परंतु सबूत की जरूरत कहाँ थी ? वह पूरी तरह ही संतुष्ट था कि वह कभी भी रांची नहीं गया था-और बस यही सत्य था।
नदी की हवा ठंडी व मोहक थी और फिर भी उसके मस्तिष्क में हल्की सी अशांति थी। और शीघ्रता में बिपिन बाबू ने अपनी पैंट उठाने का फैसला किया और अपने दायें घुटने को देखा।

3. There was could be. (Pages 63-64)

उस पर एक इंच लंबे पुराने घाव का निशान था। यह बताना असंभव था कि यह चोट कब लगी थी। क्या वह बचपन में कभी गिरा था और अपना घुटना कटवा लिया था ? उसने ऐसी कोई घटना याद करने की कोशिश की परंतु याद नहीं कर पाया।
तब बिपिन बाबू को दिनेश मुखर्जी की याद आई। उस आदमी ने कहा था कि रांची में दिनेश मुखर्जी उसके साथ था। उससे पूछना सबसे अच्छा रहेगा। वह पास ही में रहता था-बेनिनंदन स्ट्रीट। अभी जाऊँ तो कैसा रहे? परंतु, यदि वह कभी भी रांची नहीं गया था, तो दिनेश क्या सोचेगा, यदि बिपिन बाबू उससे पुष्टि माँगेंगे? वह शायद इस नतीजे पर पहुंचेगा कि बिपिन बाबू पागल हो गया। नहीं; उससे पूछना बेतुका होगा।
और वह जानता था कि दिनेश का व्यंग्य कितना बेकार होगा?

4. “Sipping a … …..wouldn’t show. (Page 64)

अपने वातानुकूलित कक्ष में ठंडे-पेय का एक चूंट भरते हुए बिपिन बाबू को थोड़ी शांति मिली। कितनी नासमझी थी! सिर्फ इसलिए कि उसके पास करने को और कुछ न था, ऐसे लोग दूसरे लोगों की जिंदगी में पैर फँसाते रहते हैं।
रात्रि भोजन के बाद एक नये रोमांच के साथ बिस्तर में घुसे बिपिन बाबू नया बाजार में मिले उस आदमी के बारे में सब कुछ भूल गए।
अगले दिन, आफिस में, बिपिन बाबू ने घंटों बाद यह महसूस किया कि गत दिन की घटना उसके मस्तिष्क पर अधिक प्रभाव डाल रही थी। यदि वह व्यक्ति बिपिन बाबू के बारे में इतना अधिक जानता था तो वह राँची के दौरे के बारे में ऐसी गलती कैसे कर सकता था?
दोपहर के भोजन से पूर्व बिपिन बाबू ने दिनेश मुखर्जी को फोन करने का फैसला किया। फोन पर प्रश्न पूछकर मामला निपटा लेना अधिक बेहतर था, कम से कम इससे उसके चेहरे की घबराहट नजर नहीं आएगी।

5. “Two-Three-Five ………. appetite. (Pages 64-65)

दो-तीन-पाँच-छ:-एक-दः।
बिपिन बाबू ने नम्बर डायल किया।
“हैलो।”
“क्या, दिनेश? मैं बिपिन बोल रहा हूँ।”
“अच्छा-क्या समाचार है?”

“मैं केवल यह जानना चाहता था कि क्या तुम 1958 में हुई किसी घटना को याद कर सकते हो?” “1958? कौन सी घटना?” “क्या तुम उस वर्प कलकत्ता में ही थे? सबसे पहले मैं यही जानना चाहता हूँ।” “एक मिनट ठहरो। …….58……. मुझे अपनी डायरी में देखने दे।”
एक क्षण के लिए शांति छाई रही। बिपिन बाबू को लगा कि उसकी दिल की धड़कन ऊपर जा रही थी। उसे थोड़ा पसीना भी आ रहा था।

“हैलो!” “हाँ। “मझे मिल गया। मैं दो बार वाहर गया था।” . “कहाँ?”
“एक बार फरवरी में—पास में ही अपने भतीजे की शादी में कृष्णा नगर। और फिर…….पर यह तो तुम भी जानते हो। राँची का दौरा। तुम भी तो थे वहाँ। बस यही कुछ। परंतु यह जाँच किसलिए?”
“नहीं, बस जानना चाहता था…… खैर, धन्यवाद।” ।
विपिन बाबू ने रिसीवर जोर से नीचे रखा और अपना सिर हाथों में पकड़ लिया। उसे अपना सिर घूमता प्रतीत हो रहा था। एक सिरहन सी शरीर में दौड़ती महसूस हो रही थी। उसके टिफिन बॉक्स में सैंडविच थे, परंतु उसने उन्हें नहीं खाया। उसकी भूख जैसे मर गई थी।

Part – III

1. After lunch-time………………………. impossible. (Pages 65-66)

दोपहर के भोजन के बाद, बिपिन बाबू को महसूस हुआ कि वह अब और अपने डैस्क पर नहीं बैठ सकता और काम नहीं कर सकता। 25 वर्षों में जब से वह इस कम्पनी में था, ऐसा पहले कभी नहीं हुआ। उनकी साख एक कभी न थकने वाले, कर्मठ कार्यकर्ता की रही थी। परन्तु आज उनका सिर घूम रहा था।
ढाई बजे घर पहुँच कर, बिपिन वाबू बिस्तर पर लेट गया और यादें इकट्ठी करने लगा। उन्हें पता था कि सिर पर चोट लगने के कारण किसी की भी स्मरण शक्ति खो सकती थी, परन्तु उन्हें कोई भी ऐसी घटना याद नहीं आ रही थी। सिवाय एक के, और वो भी जो अभी घटित हुई थी और उन्हें याद भी थी। वह हमेशा रांची जाना चाहता था, वहाँ गया हो, कुछ किया हो और कुछ भी याद न हो ऐसा बिल्कुल असंभव था।

2. A seven thirty …………. hopefully. (Page 66)

साढ़े सात बजे, बिपिन वाबू का नौकर आया और मिला, “चुन्नी बावू, सर! कहते हैं आवश्यक कार्य है।”
बिपिन बाबू जानता था कि चुन्नी क्यों आया था। चुन्नी लाल उनके साथ स्कूल में पढ़ा करता था। पिछले कुछ समय से उसका समय मुश्किल में चल रहा था और नौकरी के लिए वह उनसे मिलने आता रहता था। विपिन बावू जानता था कि उसके लिए कुछ भी करना सहज नहीं था और हालाँकि वह उसे बता भी चुका था। परंतु चुन्नी लाल खोटे सिक्के की तरह घूमता रहता था। बिपिन बाबू ने संदेश भिजवाया कि न केवल अभी बल्कि आने वाले कुछ हफ्तों तक वह चुन्नी से नहीं मिल पायेगा। परंतु जैसे ही नौकर कमरे से गया बिपिन बाबू को लगा कि शायद चुन्नी को 1958 के दौरे के बारे में कुछ याद हो। उससे पूछने में कोई बुराई न थी। बिपिन बाबू तेजी से सीढ़ियाँ उतर गये और बैठक में पहुँचे। चुन्नी जाने को ही था, परन्तु बिपिन को आते देख वह आशा में मुड़ा।

3. Bepin Babu …… ……….. trip?” (Pages 66-67)

बिपिन बाबू ने इधर-उधर की बातें नहीं की।
“सुनो, चुन्नी-मैं तुमसे कुछ पूछना चाहता हूँ। तुम्हारी याददाशत बेहतर है, और तुम मुझे लम्बे समय से देख रहे हो।” जरा पिछले वर्षों के बारे में सोचो और मुझे बताओ-क्या मैं 1958 में राँची गया था?”
चुन्नी बोला, “58? यह 58 ही रहा होगा। या 59 था वह ?”
“तुम्हें विश्वास है कि मैं राँची गया था?”
चुन्नी की नजरें और आश्चर्य से भरी थीं।
“तुम्हारा मतलब है कि तुम्हारा द्वारा संदेह जाने के विषय में ही है?”
“क्या मैं गया था? क्या तुम्हें अच्छी प्रकार से याद है?”
चुन्नी सोफे पर बैठ गया, बिपिन बाबू को लम्बी और कड़ी निगाहों से देखा और कहा, ‘बिपिन, क्या तुमने कोई नशा या अन्य चीज ली है? जहाँ तक मैं जानता हूँ, ऐसी चीजों से तुम्हारा रिकॉर्ड साफ सुथरा रहा है। मैं जानता हूँ पुरानी मित्रता तुम्हारे लिए अधिक अर्थ नहीं रखती किंतु कम से कम तुम्हारे पास एक अच्छी स्मरण शक्ति तो है। तुम्हारा अर्थ यह नहीं हो सकता कि तुम रांची यात्रा के विषय में भूल गये हो ?”

4. Bepin Babu ……….. my work.” (Page 67)

बिपिन बाबू को चुन्नी की संदेह भरी नजरों से दूर हटना पड़ा।
“क्या तुम्हें याद है कि मेरी आखिरी नौकरी कौन-सी थी?” चुन्नी लाल ने पूछा।
“बिल्कुल! तुम एक ट्रेवल एजेंसी के लिए काम करते थे।”

“तुम्हें यह तो याद है पर यह याद नहीं है कि वह मैं ही था जिसने तुम्हारी राँची यात्रा की रेल टिकट बुक करवायी थी। मैं तुम्हें स्टेशन पर अलविदा कहने आया था; तुम्हारे डिब्बे में एक पंखा काम नहीं कर रहा था, मैंने बिजली वाले को बुलवाकर उसे ठीक करवाया था। क्या तुम सब कुछ भूल गए हो? तुम्हारे साथ परेशानी क्या है? तुम ज्यादा ठीक नहीं लग रहे हो ?”

बिपिन बाबू ने उच्छवास ली और अपना सिर हिलाया। “मैं ज्यादा मेहनत कर रहा हूँ;” उसने अन्ततः कहा। “यही कारण होगा। मुझे किसी विशेषज्ञ को दिखाना चाहिए।” निःसंदेह यह बिपिन की दशा थी जिसके कारण चुन्नी लाल अपनी नौकरी के बारे में बिना बात किए ही चला गया। – परेश चन्दा एक युवा डाक्टर था जिसकी दो चमकीली आँखें थीं और एक तीखी नाक थी। जब उसने बिपिन बाबू ‘के लक्षणों के बारे में सुना तो वह सोच में पड़ गया। “देखिए, डाक्टर चन्दा,” बिपिन बाबू ने जल्दी से कहा, “आपको मुझे इस भयंकर बीमारी से ठीक करना ही होगा। मैं आपको बता नहीं सकता इससे मेरे काम पर कितना असर पड़ रहा है।”

5. Dr. Chanda ………….. same evening. (Page 68)

डॉ. चन्दा ने अपना सिर हिलाया।
“आपको पता है, चौधरी,” उसने कहा। “मैंने कभी भी ऐसे केस नहीं सुलझाए हैं। जैसा कि आपका है, सच तो यह है कि यह मेरे अनुभव क्षेत्र से बाहर है। परन्तु मेरे पास एक सलाह है। मुझे नहीं पता कि वह काम करेगी या नहीं परन्तु हम कोशिश कर सकते हैं। इससे कोई नुकसान नहीं है।”
बिपिन बाबू उत्तेजित होकर आगे की ओर झुके। ___ “जितना मैं समझ सकता हूँ,” डाक्टर चंदा ने कहा। “और मुझे लगता है कि आप भी सहमत होंगे- आप रांची गए होंगे, परन्तु किसी अनजान कारण से वह पूरा वाक्य आपके दिमाग से निकल गया है। मैं यह सलाह दूंगा कि आप एक बार फिर रांची जाएँ। उस जगह के दृश्य शायद आपको आपकी यात्रा याद दिलवा दें। यह असंभव नहीं है। इससे अधिक में इस समय कुछ नहीं कर सकता। मैं आपको पीने की एक दवा और नींद की दवा दे देता हूँ। सोना जरूरी है, वरना लक्षण और अधिक गहरे हो जाएँगे।”
बिपिन बाबू को अगली सुबह कुछ अच्छा-सा महसूस हुआ।
नाश्ते के बाद, उसने अपने ऑफिस फोन किया, कुछ हिदायतें दी और तब उसी शाम के लिए रांची का एक फर्स्ट क्लास का टिकट बुक करवाया।

Part – IV

1. Getting off the …. ….. afternoon. (Page 68)

अगली प्रातः राँची स्टेशन पर उतरते हुए, उसे तत्काल महसूस हुआ कि वह यहाँ पहले कभी नहीं आया था। वह स्टेशन से बाहर आया, एक टैक्सी ली और कुछ देर के लिए शहर का चक्कर लगाया। उसने महसूस किया कि गलियाँ, भवन, होटल, बाजार तथा मोरावडी हिल-किसी के साथ भी हल्की सी पहचान न थी। क्या हुदरू फाल की – यात्रा यादगार रहेगी? वह ऐसा विश्वास नहीं करता था, परन्तु, साथ-साथ वह यह विचार छोड़ने को तैयार भी न था कि वह अधिक प्रयास कर चुका था। अतः उसने एक कार किराये पर ली और दोपहर बाद हुदरू हिल की ओर चल पड़ा।

2. At 5 O’clock .. .. ink on it.(Page 69)

उसी दोपहर पाँच बजे हुदरू में, पिकनिक पर आये एक समूह में से दो गुजराती व्यक्तियों ने बिपिन बाबू को एक बड़े पत्थर के पास बेहोश पाया। जब उसे होश आया, सबसे पहली बात जो बिपिन ने कही थी, वह थी “मैं समाप्त हो गया। अब कोई उम्मीद नहीं है।”
अगली सुबह, विपिन बाबू कलकत्ता वापिस लौटे। उन्हें अहसास हुआ कि अब उनके लिए कोई आशा नहीं बची थी। शीघ्र ही वह सब कुछ खो देंगे-काम करने की इच्छा, दृढ़ शक्ति, अपनी क्षमता, मानसिक सन्तुलन। क्या उनका अंत एक पागल-खाने में होगा जो…..? बिपिन बाबू इससे ज्यादा नहीं सोच पाए।घर वापिस आकर, उन्होंने डॉ. चंदा को फोन किया और उसे घर आने को कहा। स्नान के बाद, वह बिस्तर में बर्फ का बैग सिर पर रखकर बैठ गये। तभी नौकर उनके लिए एक पत्र लेकर आया जो कोई लैटर बाक्स में डाल गया था। एक हरा लिफाफा जिस पर लाल रंग से उनका नाम लिखा था।

3. Above the ……. ………… pain killer. (Pages 69-70)

नाम के ऊपर लिखा था ‘जरूरी तथा गोपनीय’। अपनी इस दशा के बावजूद, बिपिन बाबू को आभास हुआ कि उन्हें उस पत्र को पढ़ना चाहिए। उन्होंने लिफाफे को फाड़ा और पत्र निकाला। लिखा था प्रिय बिपिन, मैं नहीं जानता कि तुममें जो परिवर्तन आया था वह धन की अधिकता के परिणामस्वरूप था। क्या तुम्हारे लिए अपने एक पुराने बदनसीब मित्र की सहायता करना इतना कठिन था? मेरे पास धन नहीं है, इसीलिए मेरे संसाधन भी सीमित हैं। मेरे पास जो है, वह कल्पनाशक्ति जिसका एक भाग मैंने तुम्हारे क्रूर व्यवहार का बदला लेने हेतु उपयोग किया।

– खैर, अब तुम पुनः ठीक हो जाओगे। मेरे द्वारा लिखा गया एक उपन्यास एक प्रकाशक के द्वारा विचारार्थ है। यदि . उसे वह पसंद आया, वह मुझे अगले कुछ महीनों के अन्दर देखेगा। तुम्हारा, चुन्नी लाल जब डॉ. चन्दा आये, बिपिन बाबू बोला, “मैं ठीक हूँ। ज्योंहि मैं रांची स्टेशन पर उतर सब कुछ ठीक ठाक हो गया।” “एक अद्भुत केस,” डॉ. चन्दा बोले। “मैं अवश्य एक मेडिकल पत्रिका में इसके बारे में लिखेंगा।” “कारण क्या था जिसके लिए मैंने आपको बुलाया था,” बिपिन बाबू बोला, “मुझे राँची में गिरने से नितम्ब पर दर्द हो रहा है। यदि आप कोई दर्द निवारक दवा लिख देते…!”

Bepin Choudhury’s Lapse of Memory MCQs Multiple Choice Questions

Question 1.
Who met Bepin Babu at New Market ?
(a) Chunilal
(b) Sita Ram
(c) Parimal Ghose
(d) Kalicharan
Answer:
(c) Parimal Ghose

Question 2.
Where was Bepin Babu in 58 during Puja holiday’s ?
(a) Hapur
(b) Lucknow
(c) Kanpur
(d) Dinapur
Answer:
(c) Kanpur

Question 3.
What was Dr. Chanda talking about Bepin Babu ?
(a) Lapse of memory
(b) Lapse of snorting
(c) Lapse of writing
(d) Lapse of sleep
Answer:
(a) Lapse of memory

Question 4.
Who said that Dinesh Mukerji was in Ranchi in ’58 ?
(a) Chunilal
(b) Parimal Ghose
(c) Sita Ram
(d) Kalicharan
Answer:
(b) Parimal Ghose

Question 5.
Where did Dinesh Mukerji live ?
(a) Oxford Street
(b) Bentinck Street
(c) Beninandan Street
(d) Kalicharan’ Street
Answer:
(c) Beninandan Street

The Complete Educational Website

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *