NCERT Solutions for Class 8 English It So Happened Chapter 3 The Selfish Giant

NCERT Solutions for Class 8 English It So Happened Chapter 3 The Selfish Giant

Click here to get access to the best NCERT Solutions for Class 8 English. Each and every question of NCERT Solutions for Class 8 English It So Happened Chapter 3 The Selfish Giant has been answered with easy to download solutions in PDF format.

The Selfish Giant NCERT Solutions for Class 8 English It So Happened Chapter 3

The Selfish Giant NCERT Text Book Questions and Answers

The Selfish Giant Comprehension check

Question 1.
Why is the Giant called selfish ?
Answer:
The Giant did not allow the children to enter and play in his beautiful garden. He thought that his garden was only for him. He had built a wall around his garden. That is why he is called selfish.

Question 2.
On one occasion the children said: “How happy we are here!” Later they said: “How happy we were there!” What are they referring to in both the cases ?
Answer:
In Giant’s absence, the children would play and enjoy themselves in his beautiful garden. They felt very happy and exclaimed: “How happy we are here!” However, when the Giant came back, he stopped the children from playing in his garden. He also built the wall around his garden. Remembering the day when they enjoyed playing in Giant’s garden, the children felt very sad and said: “How happy we were there!”

Question 3.
(i) When spring came, it was still winter in the garden. What does winter stand for or indicate here ?
(ii) Winter has been presented like a story with its own characters and their activities. Describe the story in your own words.
Answer:
(i) In absence of the children, the Giant’s garden did not blossom though it was thespring season. So, there was still winter in Giant’s garden. Winter indicates the autumn season when neither flowers nor birds could be seen in the garden.

(ii) Despite spring, there seemed to be winter in Giant’s garden. Neither flowers blossomed nor birds sang there as it happens in winter. Snow, frost, north wind, hail, etc. have been presented as characters or persons. They seemed to be annoyed because the Giant had banned the entry of children in his garden.

Once a beautiful flower put its head out from the grass. When it saw that children had been prohibited to play there, it also drew back. Thus we learn that the presence of children makes the garden more beautiful. Then the flowers will bloom and the birds will sing.

Question 4.
Was the Giant happy or sad over the state of the garden ?
Answer:
Of course, the Giant felt sad when there was winter-like situation during spring season in his garden. Neither birds flew or sang nor flowers grew there.

Question 5.
What effect did the linnet’s song have over Hail and the North Wind ?
Answer:
When linnet started singing in the Giant’s garden, the Hail stopped dancing and the North Wind stopped roaring. A delicious scent blew towards him through the open window. Such was the effect of the linnet’s song over the Hail and the North Wind. The Giant felt overjoyed. He jumped out of bed happily and went downstairs.

The Selfish Giant Comprehension check (Page-24)

Question 1.
(i) The Giant saw a most wonderful sight. What did he see?
(ii) What did he realise on seeing it ?
Answer:
(i) The Giant saw that the children had entered the garden through a gap in the wall. They were sitting on the tree branches. There was a little child in every tree. The trees were covered with flowers. They waved their branches above children’s heads. The birds were flying and chirping joyfully. Flowers too had come out of grass. This was the most wonderful sight the Giant saw.

(ii) The Giant realised that he had been very selfish by closing his garden for the children. He also realised that he should not have built a wall around his garden. Because of it his garden had been without flowers and birds.

Question 2.
Why was it still winter in one corner of the garden?
Answer:
It was so because in that corner of the Giant’s garden was standing a little boy who could not climb upon the branches of the tree. As the little boy stood on the ground and could not sit on the branches, there were neither flowers nor birds. That is why there was still winter in that corner.

Question 3.
Describe the first meeting of the little boy and the Giant.
Answer:
The Giant had stopped the children from playing in his garden. So, flowers did not blossom and the birds did not sing there. One day, the Giant was surprised to see the children sitting on the tree branches of his garden. In the distant corner, a little boy was standing. He was too small to climb on the tree branches. The child was crying bitterly. The Giant went towards the child. He picked him up gently in his hands. Then he put him up on the tree. As soon as he did so, flowers grew upon its branches and the birds flew up around the tree. The little boy stretched his arms around the Giant’s neck and kissed him. This was the first meeting between the little boy and the Giant.

Question 4.
Describe their second meeting after a long interval.
Answer:
The Giant had grown fondness and love for the little boy. He used to ask other children about the little boy. He felt very sad to know that the children did not know him. The Giant had grown weak and old.One day in winter the Giant’s eyes fell on the little boy for the second time.

The Giant was extremely happy to see him. When he went close to the boy, he saw the prints of two nails on his hands and feet. He thought someone had injured the little boy. The Giant grew angry but the little boy told him that these were the wounds of love. Realising that he must be Jesus Christ, he knelt before the little child. The child smiled. He offered to take the Giant to his paradise.

Question 5.
The Giant lay dead, all covered with white blossoms. What does this . sentence indicate about the once selfish Giant?
Answer:
It indicates that the Giant had been blessed with ‘Paradise’ after his death. During the later years of his life, he was no more selfish. Rather he was kind-hearted and his attitude towards children had completely changed. That is why God was also kind to him.

The Selfish Giant Exercise Questions and Answers

Discuss the following topics in groups.

Question 1.
The little child’s hands and feet had marks of nails. What does the child remind you of? Give a reason for your answer.
Answer:
When the Giant saw the little child for the second time, he found marks of nails on his hands and feet. The marks of nails on the little child’s hands and feet remind us about the incident of Jesus Christ’s crucification. Nails were fixed by the Jews on his palms and feet against a wooden cross. The Giant had realised that the little boy is Jesus Christ, when he told him that these are wounds of love. That is why he knelt before the little child. I think Jesus might have wanted to teach him the lesson of kindness towards the children. The Giant became kind to them at the end. I adise.

Question 2.
Is there something like this garden near where you live? Would you like one (without the Giant perhaps) and why? What would you do to keep it in good shape ?
Answer:
Yes, there is a beautiful garden in the colony where I live. It is a huge garden, which opens on four sides. It opens at 5a.m and closes at 8 p.m. There are a lot of attractive trees. In spring season it looks most attractive. Flowers of various kinds and colours are grown. Sometimes I see there rare birds also.

I go there for morning walk and in the evening I go there to play tennis. The garden has a small swimming pool also. There is a great rush of visitors in the morning and evening. A lot of children play there. It is a public park, so we have no fear of any Giant there. On every Sunday, the people do honorary service for the cleanliness and maintenance of the garden. I also go there every sunday to do so.

The Selfish Giant Introduction

The Giant had a beautiful garden where the school children would play when he was away. When he came back, he stopped the children from playing there and raised a high wall for this purpose. In the spring the flowers grew everywhere, but in his garden there was a winter-like situation. Then later on, there was a change in the attitude of the Giant towards the children. He allowed them to play in his garden, which was now full of flowers and birds. For this he got a place in the paradise.

The Selfish Giant Word Notes

NCERT Solutions for Class 8 English It So Happened Chapter 3 The Selfish Giant

The Selfish Giant Complete Hindi Translation

• The Giant’s …. …. change of heart. (Page 17)
• राक्षस का उद्यान (बाग) सुंदर था, और बच्चे इसमें खेलना पसंद करते थे।
• राक्षस ने, जो स्वार्थी था, अपने प्यारे उद्यान के चारों ओर एक ऊँची दीवार बना दी थी।
• इसके पश्चात बालकों ने उद्यान में प्रवेश नहीं किया। न ही वहाँ वसंत आया और न ही ग्रीष्म ऋतु आई।
ऐसा तब तक रहा जब तक कि राक्षस का हृदय-परिवर्तन नहीं हुआ।

1. Every afternoon …….. each other. (Page 17)

प्रत्येक दोपहर को, जैसे ही वे स्कूल से आ रहे होते थे, बच्चे राक्षस के उद्यान में जाते और खेलते थे। वह एक बड़ा (और) प्यारा बाग था, जिस पर कोमल हरी घास लगी हुई थी। यहाँ-वहाँ घास पर सितारों की भाँति सुंदर फूल लगे हुए थे, और वहाँ आडू के 12 वृक्ष लगे हुए थे। ये वसंत ऋतु में कोमल गुलाबी और मोतिया के फलों के रूप में खिल जाते थे, और पतझड़ में काफी फल लगते थे। पक्षी पेड़ों पर बैठते और इतने मीठे गीत गाते थे कि बालक अपने खेल रोक देते थे ताकि वे (गीतों को) सुन सकें। “हम यहाँ कितने प्रसन्न हैं!” वे एक दूसरे पर चिल्लाते हुए कहते।

2. One day the . …. ran away. (Page 17)

एक दिन राक्षस वापस आ गया। वह अपने मित्र कार्निश राक्षस से मिलने के लिए गया था और उसके साथ सात वर्ष तक रहा था। जब वह वहाँ पहुँचा तो उसने बच्चों को बाग में खेलते हुए देखा। “तुम यहाँ क्या कर रहे हो?” वह बहुत रूखे स्वर में चिल्लाकर बोला और बालक (यह सुनकर) भाग गए।

3. “My own garden ………………… selfish giant. (Page 18)

“मेरा उद्यान मेरा अपना उद्यान है,” राक्षस ने कहा, “इसे कोई भी समझ सकता है और मैं केवल अपने अतिरिक्त और किसी को भी इसमें खेलने की आज्ञा नहीं दूंगा।” अतः उसने उसके (उद्यान के) चारों ओर एक ऊँची दीवार बना दी, और इस पर एक सूचना पट भी लगा दियाः “अनधिकृत रूप से प्रवेश करने वाले दंडित होंगे।” वह एक बहुत ही स्वार्थी राक्षस था।

4. The poor children ….. ….said to each other.(Page 18)

बेचारे बच्चों के पास खेलने के लिए कोई स्थान ही नहीं था। उन्होंने सड़क पर खेलने का प्रयास किया परंतु सड़क पर बहुत धूल थी और वह कठोर पत्थरों से भरी पड़ी थी और वे इसे पसंद नहीं करते थे। जब उनका स्कूल बंद होता तो वे ऊँची दीवारों के चारों ओर घूमा करते थे और सुंदर उद्यान के भीतरी भाग के बारे में बातें करते थे। “हम वहाँ कितने प्रसन्न थे!” वे एक दूसरे से कहते।

5. Then the ….. ………. to sleep.” (Pages 18-19)

तब वसंत ऋतु आई और सारे देहांत क्षेत्र में छोटे-छोटे फूल और पक्षी थे। केवल उस स्वार्थी राक्षस के बाग में अभी भी शीत ऋतु थी। पक्षी इसमें गाने में रुचि नहीं लेते थे क्योंकि वहाँ बच्चे ही नहीं थे, और पेड़ (भी) कलियाँ निकालना भूल गये थे। एक बार एक सुंदर फूल ने अपना सिर घास से बाहर निकाला, परंतु जब इसने सूचना पट देखा तो. वह बच्चों के प्रति इतना दुःखी हुआ कि वह फिर भूमि में वापस छिप गया और सो गया।

6. The only ……… was like ice. (Page 19)

वे हिम और पाला ही थे जो इसमें रहकर प्रसन्न थे। “वसंत ने इस उद्यान को भुला दिया है,” वे चिल्लाए, “इसलिए हम यहाँ सारा वर्ष रहेंगे।” बर्फ ने वृक्षों को अपनी सफेदी से ढक दिया। तब उन्होंने महान उत्तरी पवनों को बुलाया ताकि वह उनके साथ आकर रहें और उत्तरी पवनें आ गईं। वह बारीक बालों से ढकी हुई थी और वह सारा दिन उद्यान के आस-पास गरजती रहीं और उन्होंने धुआँकश भी उड़ा दिया था। “यह बहुत ही आनंदमय स्थान है,” उसने कहा, “हमें अवश्य ही ओलों को यहाँ आने के लिए कहना चाहिए।” इसलिए ओलावृष्टि होने लगी। वे दुर्ग की छत पर प्रतिदिन तीन घन्टे गिरकर खड़खड़ाहट की आवाज़ करते थे, जब तक कि पत्थर की स्लेंटे टुकड़े-टुकड़े हो गईं और तब उद्यान के चारों ओर तीन दिन तक इतने तेज पड़ते रहे जितने कि वे पड़ सकते थे। ये ओले, भूरे रंग के होते थे और इनके साथ चलने वाली वायु बर्फ की भाँति ठंडी थी।

7. I cannot ….. ………….. the trees. (Page 19)

“मुझे समझ नहीं आ रहा कि वसंत आने में देरी क्यों कर रहा है,” स्वार्थी राक्षस ने कहा, जैसे ही वह खिड़की पर बैठा और अपने ठंडे तथा सफेद उद्यान को देखा; “मुझे आशा है कि अब अवश्य ऋतु परिवर्तन होगा।”
परंतु वसंत ऋतु कभी नहीं आई, न ही ग्रीष्म ऋतु। पतझड़ के कारण हर उद्यान में सुनहरे फल उग आए, परंतु राक्षस के बाग में कोई फल नहीं आया। “वह अत्यन्त स्वार्थी है,” उसने कहा। इसलिए वहाँ सदा शीत ऋतु ही रही, और वृक्षों के चारों ओर उत्तरी पवनें चलती रहीं, ओलावृष्टि होती रही और हिमपात होता रहा।

8. One morning …. … in the world. (Page 19)

एक सुबह राक्षस बिस्तर में लेटा हुआ था, जब उसने मधुर संगीत सुना। यह उसके कानों को इतना मधुर लगा कि उसने सोचा कि यहाँ से अवश्य राजा के संगीतकार गुजर रहे होंगे। यह वास्तव में एक छोटा सा लिनिट पक्षी था जो उसकी खिड़की से बाहर गा रहा था, परंतु चूंकि उसने अपने उद्यान में पक्षी को गाते एक लंबे समय के पश्चात सुना था, इसलिए उसे यह विश्व का मधुरतम संगीत प्रतीत हुआ।

9. Then the Hail …. ………. and looked out. (Page 19)

तब ओलों ने उसके सिर पर नाचना बंदकर दिया, और उत्तरी पवनों की गर्जना थम गयी, और एक स्वादिष्ट सुगंध उसकी ओर खुली खिड़की से आई। “मेरा विचार है कि अन्ततः वसंत आ गया है,” राक्षस ने कहा; और वह बिस्तर से कूदकर निकला और बाहर देखा।

Part-II

To celebrate ……. much later. (Page 20)

• बच्चों की वापसी का उत्सव मनाने के लिए वृक्षों ने स्वयं को पक्षियों तथा फूलों से ढक लिया।
• राक्षस बच्चों को वापस आया देखकर अति प्रसन्न हुआ, विशेषकर उस छोटे लड़के को जिसे वह बेहद प्यार करता था।
• वह छोटा लड़का शीघ्र ही लुप्त हो गया किंतु वह बहुत देर के पश्चात वापस आया।

10. He saw …… ……… children’s heads.(Pages 20-21)

उसने एक बहुत अद्भुत दृश्य देखा। दीवार में से एक छेद के रास्ते बच्चे रेंगकर अंदर आ घुसे थे, और वे पेड़ों की टहनियों पर बैठे हुए थे। जिस वृक्ष को भी वह देख सकता था उस पर एक छोटा बच्चा बैठा हुआ था। और पेड़ बच्चों को उद्यान में वापस आया देखकर इतने प्रसन्न थे कि उन्होंने स्वयं को फूलों से ढक लिया था। वे अपनी बाँहें (टहनियां) बहुत प्यार से बच्चों के सिर पर हिला रहे थे।

11. The birds .. …………. standing a little boy. (Page 21)

पक्षी इधर-इधर उड़ रहे थे और प्रसन्न होकर चहक रहे थे और फूल हरी-हरी घास से पार देख रहे थे और हँस रहे थे। यह एक प्यारा दृश्य था। केवल एक कोने में अभी भी शीत ऋतु थी। वह उद्यान का एक दूर का कोना था और वहाँ उसमें खड़ा हुआ था एक छोटा सा बालक।

12. He was …… …………….. boy was too tiny. (Page 21)

वह इतना छोटा था कि वह पेड़ की टहनियों तक नहीं पहुंच सकता था, और वह इसके चारों ओर बुरी तरह चीखते हुए घूम रहा था। बेचारा वृक्ष अब भी पाले तथा बर्फ से ढका हुआ था, और उत्तरी पवनें चल रही थीं और उस पर गरज रही थीं। (शोर मचा रही थीं)। “छोटे बालक, ऊपर चढ़ जाओ,” पेड़ ने कहा, और अपनी टहनियाँ इतनी नीची कर लीं जितनी भी वह कर सकता था, परन्तु बालक तो बहुत छोटा था।

13. And the Giant’s ……………………… had done. (Page 21)

जैसे ही उसने बाहर देखा, राक्षस का मन पिघल गया। “मैं कितना स्वार्थी रहा हूँ।” उसने कहा, “अब मैं जान गया हूँ कि वसंत ऋतु यहाँ क्यों नहीं आयी। मैं इस बेचारे छोटे से बालक को वृक्ष की चोटी पर बिठाऊँगा और तब मैं दीवार को ठोकर मार कर गिरा दूंगा और मेरा उद्यान सदा-सदा के लिए बच्चों के खेल का मैदान बन जाएगा।” जो कुछ उसने किया था उसका उसे वास्तव में बहुत अफसोस था।

14. So he crept ….. ………….. the Giant coming. (Page 21)

अतः वह नीचे आया और उसने सामने का द्वार बहुत आराम से खोला, और बाहर उद्यान में चला गया। परंतु जब बालकों ने उसे देखा तो वे इतने भयभीत हो गए कि वे भाग खड़े हुए, और उद्यान में दोबारा शीत ऋतु आ गई। केवल वह छोटा लड़का नहीं दौड़ा, क्योंकि उसकी आँखों में इतने आँसू भर गए थे कि उसने राक्षस को आते हुए नहीं देखा था।

15. And the Giant ………..kissed him. (Page 21)

और राक्षस उसके (छोटे लड़के के पीछे चोरी-चोरी आया और उसने धीरे से उसे अपने हाथों में उठा लिया और उसे पेड़ पर बिठा दिया। पेड़ एकदम फूलों से भर गया, पक्षी आ गए और इस पर बैठ कर गाने लगे। और छोटे लड़के ने अपनी दोनों बाँहें फैलाकर राक्षस की गरदन के चारों ओर लपेट लीं, और उसे चूम लिया।

16. And the other ……………………………. ever seen.

और अन्य बच्चों ने जब देखा कि राक्षस अब दुष्ट नहीं रहा तो वे वापस दौड़ते हुए आ गये, और उनके साथ आया वसंत। “छोटे बच्चो, यह अब तुम्हारा उद्यान है,” राक्षस बोला और उसने एक बड़ी कुल्हाड़ी उठाई और दीवार को गिरा दिया। जब लोग बारह बजे बाज़ार जा रहे थे, उन्होंने पाया कि राक्षस उस अत्यंत सुंदर उद्यान में, जैसा कि उन्होंने पहले कभी देखा था, बच्चों के साथ खेल रहा है।

17. All day long …………….. has gone away.(Page 22)

वे सारा दिन खेलते रहे, और शाम को वे राक्षस के पास आए और उसे विदा कही। “परंतु तुम्हारा छोटा साथी कहाँ है?” उसने पूछा; “वह लड़का जिसे मैंने पेड़ पर बिठाया था?” राक्षस उससे बहुत प्यार करता था. क्योंकि उसने उसे चूमा था। “हम नहीं जानते,” बच्चों ने उत्तर दिया, “वह चला गया है।”

18. You must tell ….. felt very sad.. (Page 22)

“तुम उसे अवश्य बताना और कल आना,” राक्षस बोला। परंतु बच्चों ने कहा कि वे नहीं जानते वह कहाँ रहता है, पहले उसे कभी नहीं देखा था, और राक्षस बहुत उदास हुआ।

19. Every afternoon …. …. used to say. (Page 22)

हर शाम को जब बच्चों का विद्यालय बंद होता था, वे आते और राक्षस के साथ खेलते। परंतु छोटा लड़का जिसको राक्षस प्यार करता था दोबारा कभी नहीं दिखाई दिया। राक्षस सभी बच्चों पर बहुत दयालु था, फिर भी वह अपने छोटे मित्र के लिए तड़पता था और अक्सर उसके बारे में बातें करता रहता था। वह कहा करता था, “कितना अच्छा होता यदि मैं उसे देख पाता!”

20. Years went … ……………. flowers of all. (Pages 22-23)

वर्षों बीत गए, राक्षस वृद्ध तथा दुर्बल हो गया। वह अब और नहीं खेल सकता था, अतः वह एक बड़ी कुर्सी पर बैठा रहता और बच्चों को तथा उनके खेल को देखता रहता और अपने उद्यान की प्रशंसा करता! “मेरे पास बहुत से सुंदर फूल हैं,” उसने कहा, “परंतु सबसे सुंदर फूल बच्चे ही हैं।”

21. One winter ………… were resting. (Page 23)

शीत ऋतु की एक प्रातः जब वह वस्त्र पहन रहा था उसने खिड़की से बाहर देखा। वह अब शीतकाल से घृणा नहीं करता था क्योंकि वह जानता था कि यह केवल सोई हुई वसंत ऋतु है और फूल विश्राम कर रहे हैं।

22. Suddenly he .. …. had loved. (Page 23)

अचानक उसने आश्चर्य से आँखें मसलीं और बार-बार देखा! वह निश्चित रूप से एक अद्भुत दृश्य था। उद्यान में दूर कोने पर एक वृक्ष था जो सफेद प्यारे-प्यारे फूलों से ढका हुआ था। इसकी टहनियाँ सुनहरी थीं और चाँदी जैसे रंग के फूल उनसे लटके हुए थे, और इसके नीचे वह छोटा बच्चा खड़ा था जिसे उसने प्यार किया था।

23. Downstairs ran …… …………….. little feet. (Page 23)

राक्षस बहुत प्रसन्न होकर नीचे की ओर भागा और बाहर उद्यान में चला गया। वह जल्दी से घास पार कर गया और बच्चे के पास आ गया। जब वह उसके निकट पहुँचा उसका चेहरा क्रोध से लाल हो गया। “किसने तुम्हें घायल करने का दुस्साहस किया है?” क्योंकि बच्चे की दोनों हथेलियों पर दो कीलों के निशान थे और दो कीलों के चिह्न उसके छोटे-छोटे पाँवों पर थे।

24. “Who hath dared” …………….. child. (Page 23-24)

“किसने तुम्हें घायल करने का दुस्साहस किया है?” राक्षस चिल्लाया; “मुझे बताओ ताकि मैं अपनी बड़ी तलवार से उसका वध कर दूँ!”
“नहीं!” बच्चे ने उत्तर दियाः “परंतु ये तो प्यार के घाव हैं।” __ “तुम कौन हो?” राक्षस ने कहा, और एक आश्चर्यजनक भय उसके चेहरे पर छा गया, और वह छोटे बच्चे के सामने घुटनों के बल झुक गया।।

25. And the ………….. …………… white blossoms. (Page 24)

और बच्चा राक्षस पर मुस्कुराया और कहा, “तुमने एक बार मुझे अपने उद्यान में खेलने दिया था, आज ही मेरे साथ मेरे उद्यान में चलोगे जो स्वर्ग है।” । – और जब बच्चे अपराह को दौड़ते हुए आए तो उन्होंने राक्षस को पेड़ के नीचे मृत पड़ा पाया जो सफेद फूलों से ढका हुआ था।

The Selfish Giant MCQs Multiple Choice Questions

Question 1.
Who built a wall around the garden ?
(a) A contractor
(b) A giant
(c) A landlord
(d) Some army men
Answer:
(b) A giant

Question 2.
How much time did giant spend with his friend ?
(a) Five years
(b) Six years
(c) Seven years
(d) Eight years
Answer:
(c) Seven years

Question 3.
Who played in giant’s garden when the children were away ?
(a) Snow
(b) Frost
(c) North Wind
(d) All the above
Answer:
(d) All the above

Question 4.
How did the children enter the garden ?
(a) Thro’ the gate
(b) Thro’ tunnel
(c) Thro’ a hole
(d) Thro’ a ladder
Answer:
(c) Thro’ a hole

Question 5.
How did the giant knock the wall down ?
(a) With his fist
(b) With his axe
(c) With his mighty stick
(d) None of the above
Answer:
(b) With his axe

Question 6.
Who stood under the tree in one corner of the garden?
(a) A giant’s son
(b) A little boy
(c) A huge monkey
(d) A brute
Answer:
(b) A little boy

The Complete Educational Website

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *